उत्तर प्रदेशप्रयागराज

UP TET: टीईटी के लिए परीक्षा सेंटर बनाने की प्रक्रिया शुरू, 28 नवंबर को 21 लाख अभ्यर्थी देंगे परीक्षा

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी-टीईटी) 2021 के लिए 21.62 लाख आवेदन मिले हैं। कुल 13.52 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। बड़ी संख्या में एक ही अभ्यर्थियों प्राथमिक और उच्च प्राथमिक दोनों स्तर की परीक्षाओं के लिए आवेदन करने के कारण फॉर्म की संख्या 21 लाख से अधिक हो गई है। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय कुमार उपाध्याय ने 25 अक्टूूबर को यूपी-टीईटी 2021 के आवेदन की अंतिम तिथि एक दिन और बढ़ाकर 26 अक्टूूबर की रात 12 बजे तक कर दी थी। ऑनलाइन फीस 27 अक्टूूबर तक जमा हुए और आवेदन पूर्ण करने व प्रिंट लेने के लिए 28 अक्टूूबर की रात 12 बजे तक का मौका दिया गया था। एनआईओएस से डीएलएड अभ्यर्थियों को आवेदन में मौका मिलने और डीएलएड द्वितीय सेमेस्टर के परिणाम में देरी के कारण एक दिन का अतिरिक्त अवसर दिया गया था। परीक्षा 28 नवंबर को होगी।

जिलों में तेज हुई परीक्षा की तैयारी:

यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा को लेकर जिले में तैयारियां शुरू हो गई हैं। प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा 28 नवंबर को दो पालियों में होगी तो केंद्र बनाने के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। जिले के एडेड इंटरमीडिएट एवं डिग्री कॉलेजों को केंद्र बनाने के लिए डीआईओएस की तरफ से पत्र जारी किए गए हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी को सूची भेजी जाएगी, और फिर वहां से केंद्रों को फाइनल किया जाएगा। जिले में परीक्षा के लिए करीब 20 केंद्र बनेंगे। बेसिक शिक्षा विभाग के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर के विद्यालयों में शिक्षक बनने के लिए पहले परीक्षा नियामक प्राधिकारी प्रयागराज द्वारा टीईटी यानि शिक्षक पात्रता परीक्षा आयोजित कराई जाती है। प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर के लिए दो पालियों में यह परीक्षा होती है। कोरोना काल में पिछले वर्ष यूपी टीईटी नहीं हो सकी थी तो इस बार शासन करा रहा है।

28 नवंबर को यूपी टीईटी जिले में दो पालियों में होगी। परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने भी टीईटी कराने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। परीक्षा के लिए डीएम की अध्यक्षता में एक समिति भी बनी है और यह इसके द्वारा केंद्र बनाने की तैयारियों को शुरू कर दिया गया है। बताया गया की केवल एडेड इंटरमीडिएट व डिग्री कॉलेजों को परीक्षा के लिए केंद्र बनाया जाएगा। केंद्रों पर बिजली, पानी, शौचालय, चारदीवारी सहित अन्य सभी व्यवस्थाओं को देखा जा रहा है। डीआईओएस द्वारा कॉलेजों को केंद्र बनने के लिए प्रस्ताव भी भेजे गए हैं, बताया गया की कुछ कॉलेजों ने केंद्र के लिए सहमित पत्र दे दिया है। परीक्षार्थियों की इस बार ज्यादा होगी तो करीब 20 केंद्र परीक्षा के लिए बनाए जा सकते हैं।

शिवकुमार ओझा, डीआईओएस ने बताया कि यूपी टीईटी जिले में भी आयोजित होगी। केंद्र बनाने के लिए प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है। कॉलेजों को सहमित पत्र भेजे जा रहे हैं। साफ-स्वच्छ छवि वाले कॉलेजों को केंद्र बनाया जाएगा और इसमें केवल एडेड व डिग्री कॉलेज शामिल होंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button