आगराउत्तर प्रदेश

आगरा की वर्षा घरवालों से बगावत कर फईम के प्यार में बनी थी जोया, साल भर जुल्म और अत्याचार के बाद मिली मौत

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के चिलपाड़ा (शाहगंज) में शुक्रवार को वर्षा की फांसी से घुटन के कारण मौत हो गई और इसके बाद इलाके में जमकर बवाल हुआ. लेकिन पुलिस ने पहुंचकर हालात काबू में किए. बताया जा रहा है कि स्थिति अभी तनावपूर्ण है. इस मामले में पुलिस ने भाई की तहरीर पर दहेज उत्पीड़न और दहेज हत्या की धारा के तहत मामला दर्ज कर पति फईम, देवर नईम और ससुर कय्यूम कुरैशी को गिरफ्तार किया था. जबकि सास और ननद घर से गायब है और पुलिस उनकी तलाश कर रही है.

वहीं वर्षा की मौत से उसके घर के लोग सदमे में हैं और भाई फूट-फूटकर रो रहा है. उसका कहना है कि बहन चंगुल में फंस गई थी और वह वहां से निकलना चाहती थी. क्योंकि वहां के माहौल में उसका दम घुट रहा था. वह बाहर जाना चाहती थी. उसका कहना है कि फईम के परिवार के दबाव में वर्षा ने अपना धर्म बदलकर इस्लाम कबूल कर लिया था और वह वर्षा से जोया बन गई थी. आजमपाड़ा के रहने वाले दुष्यंत सिंह ने बताया कि पहले वह कोलिहाई में रहते थे और वर्षा सबसे छोटी थी और उसने इंटर किया था. परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी और बहन घर के पास ही प्यारेलाल स्कूल में पढ़ाने लगी. यहां रास्ते में फईम का घर था और उसने उसकी बहन को अपने जाल में फंसा लिया. उसे बहन के प्रेम संबधों के बारे में जानकारी नहीं थी.

घर के लोगों को नहीं था पता कब वर्षा बन गई जोया

उसका कहना है कि बहन ने निकाह कर लिया था और उसके बाद भी मायके में रह रही थी और इसके लिए फईम ने कोर्ट में याचिका दायर की थी. जब कोर्ट का नोटिस घर आया तो उसे इस बारे में पता चला. फईम ने बहन को वर्षा से जोया बना दिया था और पता चला कि उसने निंकाह कर लिया है. घर के लोगों ने उसे समझाया कि वह प्याज भी नहीं खाती है. तो वहां उस माहौल में कैसे रहेगी. वह धर्म परिवर्तन करके कैसे जी पाएंगी? इससे काफी परेशानी होगी. लेकिन वर्षा ने एक नहीं सुनी और वह फईम के घर गई.

बाजार में मां से मिलती थी वर्षा

वर्षा फईम के घर जाने के बाद अपने मायके नहीं आती थी और मां बाजार में उससे मिलने जाया करती थी. बहन परेशान थी और माहौल में उसका दम घुट रहा था और वह आजादी चाहती थी. लेकिन उसे लगातार फईम के परिवार के लोग प्रताड़ित कर रहे थे और मां ने उसे कई बार वापस आने के लिए कहा और कहा कि उसकी कहीं और शादी करा देंगे. दुष्यंत का कहना है कि वर्षा ने इसके लिए साहस जुटाया होगा और इस कारण उसकी बहन को मार दिया गया. दुष्यंत ने बताया कि चिल्लीपाड़ा में हंगामा हुआ था और उसका परिवार डरता है कि कहीं कोई बवाल ना हो. वह आजमपाड़ा इलाके में रहते हैं ये इलाके मिश्रित आबादी वाला क्षेत्र है. इसलिए उन्होंने तय किया कि शव को सीधे श्मशान घाट ले जाया जाएगा. मां ने भी मुझे ऐसा ही करने के लिए कहा था. वर्षा के भाई ने फईम और उनके परिवार के सदस्यों पर कई और गंभीर आरोप लगाए.

वर्षा ने लगाई फांसी

फिलहाल वर्षा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत फांसी से घुटन के कारण बताई जा रही है. वहीं पुलिस ने भाई की तहरीर पर दहेज उत्पीड़न और दहेज हत्या की धारा के तहत तहरीर दी है. पुलिस ने पति फईम, देवर नईम और ससुर कय्यूम कुरैशी को गिरफ्तार कर लिया है और तीनों को जेल भेज दिया गया. माहौल को देखते हुए पूरे इलाके में फोर्स तैनात है. जबकि फईम की मां और उसकी बहन गायब है.

पुलिस की मौजूदगी में हुआ अंतिम संस्कार

असल में शुक्रवार को बवाल होने के बाद पुलिस की मौजूदगी में शव का ताजगंज श्मशान घाट में अंतिम संस्कार कर दिया गया. बड़े भाई दुष्यंत ने शव को मुखाग्नि दी. दुष्यंत की शिकायत पर पुलिस ने ससुराल वालों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न, दहेज हत्या आदि धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है और इसकी जांच सीओ लोहामंडी सौरभ सिंह को दी गई है.

लगातार गुमराह कर रहा है फईम और उनका परिवार

फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक वर्षा की मौत फांसी से घुटन के कारण हुई है और उसने फांसी लगाकर जान दे दी थी. अब सवाल उठ रहे हैं कि जब उसने लव मैरिज की थी तो उसने आत्महत्या क्यों की. यही बात पुलिस को भी परेशान कर रही है. पुलिस ने फईम से पूछताछ की और वह पुलिस को गुमराह कर रहा है. फईम के पिता कय्यूम ने पुलिस को बताया कि बेटे और बहू के बीच झगड़ा हुआ था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button