उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

टिकट बंटवारे को लेकर स्क्रीनिंग कर रही है समाजवादी पार्टी, कई विधायकों की उम्मीदवारी पर लटकी तलवार

समाजवादी पार्टी इस बार विधानसभा चुनाव में कोई जोखिम नहीं उठाना चाहती. विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों को टिकट देने से पहले पार्टी तीन चरणों में स्क्रिनिंग कर रही है. स्क्रिनिंग पार्टी विधायकों के क्षेत्र में भी की जाएगी. विधानसभा क्षेत्र में एक्टिव नहीं रहे ने वाले और जिला पंचायत चुनाव में दगाबाजी करने वालों को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी. ऐसे में कई विधायकों के टिकट पर तलवार लटक रही है.

अभी समाजवादी पार्ची के 49 विधायक और 48 विधान परिषद सदस्य हैं. इनमें से कई विधान परिषद सदस्य भी विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं. बाकी दोलों से आने वाले वरिष्ट नेता भी टिकट मांग रहे हैं. कुछ को पार्टी हाईकमान की ओर से आश्वासन भी दिया गया है. जिन सीटों पर अभी सपा विधायक नहीं हैं, उन सीटों पर पार्टी ने आवेदन मांगे थे. लेकिन कई सपा विधायकों के इलाके से भी आवेदन आ गए.

इस बार कोई जोखिम नहीं उठाएगी सपा

पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस बार टिकट बंटवारे को लेकर कोई जोखिम नहीं उठाया जाएगा. हर तरीके से सावधानी बरती जाएगी. टिकट दावेदारों की लंबी सूची होने बाद भी सपा फूंक-फूंक कर कदम रख रही है. हर हाल में जताऊ उम्मीदवार को ही मैदान में उतारा जाएगा. जिस उम्मीवार पर संशय होगा. वहां दूसरे विकल्प देखा जाएगा. पार्टी ने ज्यादातर विधानसभा क्षेत्रों में एक चरण का सर्वे करा लिया है. जहां विधायक नहीं है, वहीं अलग-अलग टीमें जाकर सियासी समीकरण भाप रही हैं. अब विधायकों के क्षेत्र में स्क्रिनिंग की जा रही है.

कई स्तर पर होगी स्क्रिनिंग

पार्टी के वरिष्ठ नेता इस बात का आकलन कर रहे हैं कि संबंधित विधायक की कार्यकर्ताओं और जनता के बीच कितनी पकड़ है. कई विधायकों के प्रति नाराजगी है, तो उसके कारणों का पता किया जा रहा है. हर सीट पर पार्टी विधायक और दूसरे दल के नेताओं में से जनता किसके पक्ष में है. इसे लेकर भी चर्चा चल रही है. पार्टी विधायकों ने अपने क्षेत्र के साथ आसपास की सीट पर पार्टी का कितना प्रभाव है, इसका भी आकलन किया जा रहा है. पार्टी हाईकमान उन विधायकों पर भी नजर बनाए हुए है, जो चुनाव खत्म होने के बाद एक्टिव नहीं रहते.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button