उत्तर प्रदेशलखनऊसत्ता-सियासत

आजम की विरासत संभालेंगी उनकी बहू सिदरा, कहा-रामपुर के लोगों की खिदमत को तैयार

आजम खान और सपा के बीच के तल्ख रिश्तों की चर्चाओं को विराम देकर खबरों की सुर्खियों में छाई आजम खान की बहू सिदरा अदीब के राजनीति में प्रवेश की बातें उठने लगी हैं. सियासी गलियारों में चर्चा है कि सपा मुस्लिमों महिलाओं के वोटों को रिझाने के लिए सिदरा को चेहरा बनाकर सामने ला सकती है, इसीलिए सोची समझी रणनीति के तहत सिदरा को बयानों के जरिए सुर्खियों में लाया गया है. हाल ही में कुछ मीडिया चैनल्स ने सिदरा से उनके राजनीति में प्रवेश को लेकर बात की तो उन्होंने चुनाव लड़ने से काेई परहेज न होने की बात की, उनकी इस बेबाक स्वीकारोक्ति को उनकी पॉलिटिक्स एंट्री की चााहत के तौर पर देखा जा रहा है.

सिदरा ने चैनल से चर्चा में कहा कि वह रामपुर के लोगों की खिदमत करने को पूरी तरह तैयार हैं. अगर उनके ससुर आजम खान की रजामंदी मिलती है, तो फिर उन्हें चुनाव लड़ने में कोई परेशानी नहीं है. आजम खान के सीतापुर जेल में बंद होने के मामले पर एक बार फिर आक्रोश व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि मेरे ससुर आजम खान साहब और परिवार के दूसरे लोगों को सियासी रंजिश के तहत फंसाया जा रहा है. जमानत मिलने या छूूटने के बारे में कुछ नहीं कह सकते कि यह केस कब तक चलेंगे या कितना लंबा खिंचेंगे. बस पॉजिटिव हैं और उम्मीद है सब अच्छा होगा. इंशाअल्लाह वो जल्द ही बाहर आएंगे.

समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव की तारीफों के पुल बांधते हुए सिदरा ने कहा कि उन्होंने हमारे परिवार की हमेशा मदद की है. यदि परिवार की रजामंदी रही तो मैं रामपुर के लोगों की खिदमत और तरक्की के लिए जरूर सोचूंगी. उल्लेखनीय है कि सिदरा के ससुुर और समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान रामपुर लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं. उन पर और उनके छोटे बेटे अब्दुल्लाह पर कई सारे केस लगे हुए हैं. इसके चलते हुए वे इस समय जेल में हैं. आजम की पत्नी डॉ तंजीम फातिमा रामपुर से ही शहर विधायक हैं. उनके छोटे बेटे अब्दुल्लाह आजम जनपद की स्वार टांडा विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे, हालांकि दो जन्म प्रमाण पत्र के मामले में उनकी विधायकी चली गई.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button