उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

यूपी चुनाव से पहले सीएम योगी का बड़ा ऐलान, अब अयोध्या कैंट के नाम से जाना जाएगा फैजाबाद रेलवे जंक्शन

उत्तर प्रदेश सरकार ने आज फैजाबाद रेलवे जंक्शन का नाम बदल कर अयोध्या कैंट करने का फैसला किया है. राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका ऐलान किया है. चुनावी साल में योगी सरकार का इसे बड़ा फैसला माना जा रहा है. क्योंकि राज्य में कई जिलों और शहरों के नाम बदलने की मांग की जा रही है. जबकि राज्य सरकार फैजाबाद और प्रयागराज जिले का नाम बदलकर अयोध्या और प्रयागराज कर चुकी है.

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. इससे पहले राज्य सरकार कई बड़े फैसले ले रही है और इसी कड़ी में राज्य सरकार ने फैजाबाद रेलवे जंक्शन का नाम बदल कर अयोध्या कैंट करने का फैसला किया है. असल में राज्य में योगी सरकार बनने के बाद कई जिलों के नामों में बदलाव किया गया. राज्य की योगी सरकार ने राज्य में सरकार बनने के एक साल के बाद फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया था. उसके बाद राज्य सरकार ने पूरे अयोध्या जिले में मांस और शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था. वहीं उससे पहले अयोध्या के पांच किलोमीटर के दायरे में मांस और शराब प्रतिबंधित था. इसके साथ ही बीजेपी सरकार ने राज्य के मुगलसराय का नाम बदलकर दीन दयाल उपाध्याय नगर किया था.

कई जिलों और शहर का नाम बदलने की मांग

असल में राज्य में बीजेपी की सत्ता आने के बाद कई जिलों और शहरों के नाम बदलने की मांग की जा रही है. राज्य में सरकार ने इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयाग राज कर दिया. वहीं राज्य में पिछले दिनों अलीगढ़ का नाम हरिगढ़, मैनपुरी का नाम मयननगर और फिरोजाबाद का भी नाम चंद्रनगर करने की मांग की गई है. जबकि लखनऊ का भी नाम बदलने की मांग हिंदू संगठनों के द्वारा की गई है. इसके साथ ही पिछले दिनों कासगंज जिले का भी नाम बदलने की मांग की गई थी. इन जिलों और शहरों के नाम बदलने के लिए स्थानीय निकायों ने प्रस्ताव पारित कर शासन को भेजे हैं. जिस पर अभी तक शासन ने फैसला नहीं किया है.

देवबंद का भी नाम बदलने की मांग

राज्य में सहारनपुर के देवबंद तहसील का भी नाम देववृंद करने की मांग की गई है. स्थानीय विधायक इसको लेकर कई बार मांग कर चुके हैं. वहीं हिंदू संगठन और विश्व हिंदू परिषद काफी अरसे से देवबंद का नाम बदलने को लेकर सरकार पर दबाव बना रहे हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button