उत्तर प्रदेशप्रयागराज

डेंगू सहित सभी बड़े रोग विदेशों से ही भारत आये: सतीश राय

प्रयागराज। डेंगू एक फ्लू जैसी बीमारी है, जो डेंगू वायरस के कारण होता है। एडीज मच्छर के काटने से व्यक्ति इस बीमारी से ग्रसित हो जाता है। इसमें तेज सिर दर्द, बदन दर्द के साथ ज्यादा बुखार होता है। इसे हड्डी तोड़ बुखार भी कहते हैं। जितने भी कीटाणु-विषाणु एवं वायरस हैं, यह सभी ज्यादातर विदेशों से ही भारत में आए हैं। यह बातें एसकेआर योग एवं रेकी शोध प्रशिक्षण और प्राकृतिक संस्थान प्रयागराज के स्पर्श चिकित्सा के विख्यात ज्ञाता सतीश राय ने कही। उन्होंने बताया कि प्रतिरोधक क्षमता के पस्त होने या कमजोर होने पर ही यह कीटाणु, विषाणु, वायरस शरीर में फलता-फूलता है। इसलिए बीमारियों से बचना है एवं स्वस्थ रहना है तो प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए सभी उपाय करना होगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में डेंगू का कहर बढ़ गया है। डेंगू में तेज बुखार के पश्चात यह शरीर की ब्लड प्लेटलेट्स की संख्या को तेजी से नष्ट करता है। ध्यान न देने से रक्त स्त्राव व ब्लड प्रेशर में गिरावट मौत का कारण भी बन सकता है। आमतौर पर शरीर में 1.5 लाख से लेकर चार लाख तक प्लेटलेट्स होते हैं। आयली फूड में फैट ज्यादा होने से कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है इससे शरीर की इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। जिससे रिकवरी में दिक्कत आती है। डेंगू के मच्छर दिन में सबसे अधिक सक्रिय रहते हैं, उनका एक दंश ही व्यक्ति को संक्रमित करने के लिए पर्याप्त है। उन्होंने बताया कि पहली बार 1943 में जापान के नागासाकी में डेंगू की बीमारी फैली थी। यह भी वही प्रजाति है जो जीका एवं चिकनगुनिया के लिए जिम्मेदार है।

सतीश राय ने कहा कि बड़े व गम्भीर रोगों का भारत में फलने-फूलने का मुख्य कारण संस्कार एवं अध्यात्म में हो रही कमी है। वर्तमान में आधुनिक रहन सहन ही इन वायरसों का जनक है। वर्ल्ड फ्लू, कोरोना वायरस चीन देश के अलावा अन्य सभी तरह के कीटाणु, विषाणु, वायरस वाले रोग विदेशों से ही भारत में आए। जैसे प्लेग रोग, चेचक की बीमारी सबसे पहले मिस्र देश में फैला था वहां से भारत आया। कैंसर जैसे रोग की उत्पत्ति भी मिस्र देश में हुआ था। स्वाइन फ्लू वेराक्रूज मैक्सिको से आया। इसी तरह एड्स की बीमारी सबसे पहले अफ्रीका के कांगो की राजधानी किंशासा में फैली। उसके बाद भारत आई। मलेरिया भी एनाफिलीज मच्छर के काटने से होता है इसका पहला केस अल्जीरिया में आया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button