उत्तर प्रदेशलखनऊसत्ता-सियासत

अखिलेश के चुनावी गठबंधन के ऐलान के बाद शिवपाल करेंगे श्री रामलला के दर्शन, सामाजिक परिवर्तन से साध रहे हैं समीकरण

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने चाचा शिवपाल सिंह की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने का ऐलान किया है. वहीं कानपुर में शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि वह अयोध्या में 23 नवंबर को भगवान श्री राम के चरणों में सिर झुकाएंगे और पार्टी की जीत की प्रार्थना करेंगे. फिलहाल राज्य में एसपी और पीएसपी के बीच गठबंधन होना तय माना जा रहा है. क्योंकि अखिलेश यादव इसको लेकर ऐलान कर चुके हैं कि वह विधानसभा चुनाव में पीएसपी के साथ गठबंधन करेंगे.

वहीं कानपुर में सामाजिक परिवर्तन यात्रा पर कानपुर पहुंचे प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव ने राज्य की सत्ताधारी बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि ‘जुमलों’ की सरकार ने एक भी वादा पूरा नहीं किया और प्रदेश की जनता बदलाव के लिए तैयार है. उन्होंने दावा किया कि प्रसपा के कई विधायक जीतने के बाद विधानसभा पहुंचने वाले हैं और यह सब कार्यकर्ताओं की वजह से होगा और हम चाहते हैं कि यह उत्साह चुनाव तक जारी रहे.

शिवपाल ने कहा कि जल्द ही गठबंधन पर होगी बात

वहीं कानपुर में शिवपाल सिंह ने कहा कि एसपी के साथ गठबंधन के लिए प्रयास कर रहे हैं और जल्द ही कोई रास्ता निकलने की उम्मीद है और अगर अखिलेश यादव साथ में मिलकर चुनाव लड़ते हैं तो ये उनके लिए भी अच्छा होगा. दरअसल कुछ दिनों पहले ही अखिलेश यादव साफ कर चुके हैं कि वह विधानसभा चुनाव में शिवपाल सिंह की पार्टी पीएसपी के साथ गठबंधन करेंगे. लेकिन पीएसपी का एसपी में विलय नहीं होगा.

अयोध्या जाएंगे शिवपाल सिंह यादव

पीएसपी अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि वह 23 नवंबर को अयोध्या जाएंगे और वहां पर भगवान श्रीरामलला के दर्शन करेंगे. उन्होंने कहा कि वह एसपी के साथ गठबंधन के लिए तैयार हैं और हमारे जीतने वाले उम्मीदवार को गठबंधन से टिकट मिलना चाहिए. शिवपाल ने कहा कि हम चाहते हैं कि प्रदेश के सभी धर्मनिरपेक्ष दल एक मंच पर आएं और अखिलेश यादव को इसका नेतृत्व करना चाहिए. उन्होंने दावा किया कि अगले विधानसभा चुनाव में पीएसपी किंग मेकर की भूमिका में होगी और उसके सहयोग के बिना कोई भी पार्टी सरकार नहीं बना सकेगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button