उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

2022 विधानसभा चुनाव में PM मोदी की लोकप्रियता को हथियार बनाएगी BJP, तैयार किया पूरा रोडमैप

उत्तर प्रदेश में 2022 में विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections 2022) होने हैं. अगले साल होने वाले ये चुनाव प्रदेश के सभी बड़े दलों के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण हैं. ऐसे में सभी बड़े दल कमर कसकर चुनावी मैदान में उतर चुके हैं. सूत्रों की माने तो सत्‍तारूढ़ बीजेपी सरकार (Bjp Goverment) ने विधानसभा चुनाव के लिए अपना रोडमैप भी तैयार कर लिया है. जानकारों की माने तो इस बार भी पार्टी चुनाव में जीत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की लोकप्रियता का सहारा लेगी.

पार्टी अब हर महीने राज्य में पीएम का कार्यक्रम आयोजित करने की बात पर विचार कर रही है. वहीं सितंबर से पीएम मोदी के तीन कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे. जानकारी के मुताबिक, उत्‍तर प्रदेश में कई बड़े सरकारी प्रोजेक्‍ट्स बनकर तैयार हो गए हैं जिनका उद्घाटन पीएम मोदी के द्वारा ही होगा. साथ ही संगठन के कार्यक्रमों में भी हिस्‍सा लेंगे.

प्रदेश प्रभारी से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष तक जुटे तैयारी में

बीजेपी यूपी को लेकर कोई भी गलती करने के मूड में नहीं है. बीते कई महीनों से लगातार चुनावों को लेकर मंथन किया जा रहा है. प्रदेश के बीजेपी प्रभारी राधामोहन सिंह के अलावा पार्टी के राष्‍ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष और राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा लगातार दौरे कर रहे हैं. पीएम मोदी भी वाराणसी में एक बड़ा कार्यक्रम कर चुके हैं.

मेरा बूथ सबसे मजबूत

बीजेपी जमीनी स्तर पर जाकर काम करती है. बीते महीने बीजेपी ने 403 विधानसभा क्षेत्रों बूथ मजबूत करने का अभियान चलाया था. बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक ने कहा था कि यह आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए तैयारी की जा रही है. बीजेपी हमेशा बूथ के दम पर ही विजय हासिल करती है. इसलिए बूथ मजबूत करना सबसे जरुरी है. चुनावी प्रक्रिया का प्रमुख आधार बूथ होता है जिसका जितना दमदार बूथ होगा उसकी उतनी बड़ी विजय होगी.

कल्‍याण सिंह के निधन पर सीएम योगी ने परिवार के सदस्यों की तरह दिखे आगे

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम कल्‍याण सिंह के निधन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी और राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित पार्टी के तमाम बड़े नेता ने अलीगढ़ जाकर उन्‍हें श्रद्धांजिल दी थी. इसके अलावा सीएम योगी आदित्‍यनाथ तीन दिन तक पूर्व सीएम के साथ रहे थे और परिवार के सदस्य की तरह सभी कामों की जिम्मेदारी उन्होंने खुद उठाई थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button