उत्तर प्रदेशलखनऊ

लिखित परीक्षा के आधार पर विस्तारकों का चयन करेगी भाजपा

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर प्रदेश की सभी 403 विधानसभाओं में एक-एक विस्तारक नियुक्त करेगी। पार्टी के कार्यक्रमों का समय से संचालन इन विस्तारकों के जिम्मे रहेगा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की पृष्ठभूमि वाले कार्यकर्ताओं को ही भाजपा विस्तारक बनायेगी। इन विस्तारकों का चयन लिखित व मौखिक परीक्षा के आधार पर होगा। सोमवार को लखनऊ के होटल पारस इन में अवध क्षेत्र के विस्तारकों की लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया। विस्तारक योजना के प्रभारी अवध क्षेत्र के शंकर लाल लोधी को बनाया गया है।
लिखित परीक्षा के बाद प्रदेश संगठन मंत्री सुनील बंसल और सह संगठन मंत्री कर्मवीर ने मौखिक रूप से एक-एक अभ्यर्थियों को बुलाकर पार्टी की रीति नीति के बारे में पूछताछ की। लिखित प्रश्न पत्र में अधिकांश प्रश्न राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा की रीति नीति सिद्धान्त और केन्द्र व प्रदेश की योजनाओं से संबंधित थे। ऐसे में जो कार्यकर्ता संघ पृष्ठभूमि से उनके लिए प्रश्नपत्र बहुत आसान था जबकि जो अभ्यर्थी संघ से नहीं जुड़े थे उनके लिए प्रश्नपत्र थोड़ा कठिन था। परीक्षा पास करने के बाद विस्तारकों का प्रशिक्षण कराया जायेगा। प्रशिक्षण में विस्तारकों को विधानसभा क्षेत्रों में कार्य करने का तरीका, संगठनात्मक कार्यों का संचालन और कैसे करना इस बारे में उन्हें बताया जायेगा। इन विस्तारकों की मानीटरिंग भी सीधे प्रदेश स्तर पर होगी।
विस्तारक योजना के प्रमुख प्रदेश के सह संगठन मंत्री कर्मवीर हैं। प्रदेश के सभी विस्तारक कर्मवीर से जुड़े रहेंगे। विस्तारक अपने- अपने विधानसभा क्षेत्रों से संबंधित रिपोर्ट सीधे प्रदेश को भेजेंगे। इन विस्तारकों की चुनाव संचालन में अहम भूमिका होगा। प्रत्याशी चयन में भी इनकी भूमिका होगी। क्योंकि भाजपा के यह विस्तार प्रदेश को विधानसभा में टिकट मांग रहे नेताओं की जमीनी रिर्पोट से अवगत करायेंगे। इस आधार पर ही पार्टी संबंधित व्यक्ति के बारे में विचार करेगी। भाजपा विस्तारकों का प्रमुख कार्य पार्टी द्वारा संचालित चुनावी कार्यक्रमों और अभियानों का जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन कराना रहेगा। विधानसभा क्षेत्र के सभी कार्यकर्ता चुनाव में लगें इसका भी ध्यान भाजपा के विस्तारक रखेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button