आगराउत्तर प्रदेश

राधा-कृष्ण बनकर ताजमहल पहुंचे युवकों को नहीं दी गई एंट्री, राष्ट्रीय हिंदू परिषद ने दी धमकी- कार्रवाई करो नहीं तो लगा देंगे ताला

कृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) के मौके पर सोमवार को राष्ट्रीय हिंदू परिषद (Rashtriya Hindu Parishad) के कार्यकर्ता को ताजमहल (tajmahal agra) में अंदर प्रवेश करने से रोक दिया गया. दरअसल राष्ट्रीय हिंदू परिषद के कार्यकर्ता राधा कृष्‍ण की वेशभूषा पहनकर ताजमहल देखने के लिए पहुंचे थे. इस दौरान पुरातात्‍विक विभाग के कर्मचारियों और वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया. जिसके बाद ताजमहल के पश्चिमी गेट पर राष्ट्रीय हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया और पुरातात्‍विक विभाग के कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की. राष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष गोविंद पाराशर ने बताया कि राधाकृष्‍ण के स्वरूप जन्माष्टमी के अवसर पर तेजो महल में स्थित शिव जी से मिलने जा रहे थे, लेकिन एएसआई के कर्मचारियों और पुलिस ने उन्हें प्रवेश नहीं करने दिया.

ताजमहल पर जड़ दिया जाएगा ताला

राष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष गोविंद पाराशर ने प्रशासन को धमकी देते हुए कहा है कि अब अगर प्रशासन ने एएसआई के कर्मचारियों के खिलाफ 24 घंटे के अंदर कार्रवाई नहीं की तो राष्ट्रीय हिंदू परिषद के सैंकड़ों कार्यकर्ता ना केवल प्रदर्शन करेंगे बल्कि ताजमहल पर ताला भी जड़ देंगे.

आखिर प्रवेश करने से क्यों रोका गया नहीं है इसका किसी के पास जवाब

ताजमहल परिसर में प्रवेश करने से रोकने के सवाल पर गोविंद पाराशर ने कहा कि राधा कृष्‍ण के स्वरूप को प्रवेश देने से क्यों रोका गया इसका कोई जवाब नहीं है. ये सीधे तौर पर भगवान का अपमान है और परिषद इसे बर्दाश्त नहीं करेगी. यदि आरोपियों पर कार्रवाई नहीं की जाती है तो बड़े स्तर पर प्रदर्शन किया जाएगा और ताजमहल में किसी को भी प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा, परिषद के कार्यकर्ता ताजमहल पर ताला लगा देंगे.

इस दौरान पराशर ने चेतावनी दी कि यदि कार्रवाई नहीं हुई तो भगवान का अपमान को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय हिंदू परिषद के कार्यकर्ता इस बात से आहत हैं और उन्होंने प्रदर्शन करने की पूरी तैयारी की है. उन्होंने कहा कि ऐसे में हम किसी को भी ताजमहल में प्रवेश नहीं करने देंगे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button