उत्तर प्रदेशमुजफ्फरनगर

महापंचायत की तैयारियां हुईं तेज, योगेंद्र यादव ने कहा- ये नस्ल और फसल बचाने का समय

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) में मोरना क्षेत्र के गांव जडवड़ कटिया में जय किसान आंदोलन की किसान पंचयात (Kisan Panchayat) में योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे थे. यहां उन्होंने कहा कि ये नस्ल और फसल बचाने का समय है. किसान अपने हक की आवाज को बुलंद करे. इसी के साथ यादव ने पांच सितंबर को किसान महापंचायत (Mahapanchayat) को सफल बनाने की भी गुहार लगाई.

योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान आंदोलन 9 महीने से चल रहा है. इसे लेकर सरकार के पेट में बहुत दर्द है. आंदोलन में कुछ ऐसा पैदा हुआ है कि 75 साल में पहली बार किसान में आत्म सम्मान जाग्रत हो चुका है. वहीं बुजुर्ग किसानों ने योगेंद्र यादव को पगड़ी पहनाकर उनका सम्मान किया. उन्होंने कहाकि मुजफ्फरनगर को राजनीतिक रोटी सेकने के लिए जलाया गया था. हम मुजफ्फरनगर को दोबारा जोड़ेंगे. इसी गवाह पांच सितंबर की महापंचायत बनेगी. इसमें भाग लेने के लिए देश के किसान चल पड़े हैं.

किसानों के हक की लड़ाई

वहीं मनीष भारती ने कहा कि सामाजिक आधार की जानकारी ही आंदोलन को विश्व का सिरमौर बना देती है. प्रदेश अध्यक्ष मानवेंद्र वर्मा ने कहा कि लाभ हानि को न देखें, ये किसानों के हक की लड़ाई है. पश्चिम बंगाल से आए राष्ट्रीय अध्यक्ष अविक शाह ने कहा कि कंपनी राज और किसान की आमने-सामने की लड़ाई है. कार्यक्रम का संचालन पुष्पेंद्र कुमार और अध्यक्षता रामपाल सिंह ने की. मौके पर कर्नल जयवीर सिंह, अशोक पंवार, अभिषेक चौधरी, ओपी छोटन आदि ने भी अपने विचार रखे. आयोजन में अंकुल भाटी, बृजपाल जिला अध्यक्ष, कुलदीप, शिवकुमार, दीपक समेत अन्य का सहयोग रहा.

महिलाएं भी होंगी शामिल

भाकियू की महापंचायत में पहली बार महिलाएं भी हिस्सा लेंगी. पंजाब और हरियाणा से बड़ी संख्या में महिलाओं के पहुंचने की संभावना है. भाकियू सूत्रों के अनुसार बाहरी राज्यों से आने वाले किसान चार सितंबर में बड़ी संख्या में मुजफ्फरनगर में पहुंच जाएंगे.

युद्ध स्तर पर तैयारी कर रहा है BKU

भारतीय किसान यूनियन पांच सितंबर की पंचायत को लेकर युद्ध स्तर पर तैयारी कर रहा है. भाकियू और रालोद कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर महापंचायत में पहुंचने की अपील कर रहे हैं. महापंचायत में पहली बार महिलाओं की बड़ी संख्या देखने को मिलेगी. भाकियू सूत्रों की माने तो पंजाब और हरियाणा से महिलाओं के बड़े जत्थे पंचायत में पहुंच रहे हैं. पंचायत के जरिए महिला किसान भी अपनी ताकत दिखाएंगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button