उत्तर प्रदेशलखनऊ

महर्षि वाल्मीकि से तालिबानी आतंकियों की तुलना करने पर मुनव्वर राना पर दर्ज हुई FIR, गिरफ्तारी हुई तो नहीं मिलेगी जमानत

मशहूर शायर मुनव्वर राना (Munawwar Rana) द्वारा तालिबानी आतंकियों की तुलना महर्षि वाल्मीकि से किए जाने पर बाल्मीकि समाज काफी भड़का हुआ है. मध्य प्रदेश के गुना में मुनव्वर राना के खिलाफ गैर जमानती धाराओं में FIR दर्ज की गई है. मशहूर शायर पर महर्षि वाल्मीकि (Maharshi Valmiki)  के अपमान के आरोप में केस दर्ज किया गया है. मुनव्वर राना के खिलाफ दो दिन पहले वाल्मीकि समाज ने शिकायत दर्ज कराई गई थी. शिकायत में कहा गया था कि मुनव्वर राना ने महर्षि की तुलना तालिबान से करके देश की आस्था का अपमान किया है.

पुलिस (Guna Police)  को दी गई शिकायत में कहा गया था कि महर्षि वाल्मीकि रामायण के रचनाकार हैं. भागवान मानकर उनकी पूजा की जाती है. लेकिन मुनव्वर राना ने उनका अपमान करते हुए कहा है कि तालिबानी (Taliban Terrorist) भी 10 साल बाद वाल्मीकि बन जाएंगे. वहीं बीजेपी अनुसूचित मोर्चा के प्रदेश मंत्री सुनील मालवीय ने आरोप लगाया कि राना ने कहा था कि बाल्मीकि एक लेखक थे. हिंदू धर्म में तो किसी को भी भगवान मान लिया जाता है.

बीजेपी नेता ने कहा कि मशहूर शायर ने इस तरह का बयान देकर न सिर्फ हिंदू धर्म का अपमान किया है बल्कि वाल्मीकि को मानने वालों का भी अपमान है. उन्होंने कहा कि उन्होंने रामायण की रचना की थी, जिसके लिए भारत उनका हमेशा ऋणी रहेगा. लेकिन मुनव्वर राना ने गलत टिप्पणी कर हिंदुओं की आस्था को चोट पहुंचाई है.

गैर जमानती धारा में मुनव्वर राना पर केस दर्ज

रविवार को वाल्मीकि समाज की लिखित शिकायत के बाद मुनव्वर राना के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी. उन पर जिस धारा में केस दर्ज किया गया है उसके हिसाब से तीन साल की जेल और फाइन का प्रावधान है. यह गैर जमानती धारा है. बता दें कि मुनव्वर राना ने तालिबानी आतंकियों की तुलना महर्षि वाल्मीकि तक से की थी. उन्होंने कहा था कि वाल्मीकि जी पहले क्या थे और बाद में क्या हो गए. तालिबानी भी पहले से बदल चुके हैं. अब पहले जैसा माहौल नहीं है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button