उत्तर प्रदेशबस्ती

बेटे की मौत के बाद इंसाफ के लिए भटक रहा परिवार, 52 दिन बाद भी नहीं लिखी FIR

बस्ती : 25 अप्रैल 2021 को आर्यन की लाश पंखे से लटकती हुई मिली थी. तब से आज तक उसकी मां-बाप और बहन इंसाफ के लिए दर-दर भटकने को मजबूर है. आर्यन बेहद ही होनहार और खुश दिल बच्चा था, लेकिन अचानक से उसकी मौत हो जाना पूरे परिवार को सदमे में लाकर खड़ा कर दिया है. आर्यन की मौत हत्या या आत्महत्या है, इस बात का अभी कोई निर्णय नहीं हो पाया है, लेकिन आर्यन के परिजनों का कहना है कि जमीन और चुनाव की रंजिश को लेकर उनके बेटे की गला दबाकर हत्या की गई है और फिर मामले को दूसरा रूप देने के लिए शव को पंखे से टांग दिया गया.

मृतक के परिजन पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं है

आर्यन के पिता बालकृष्ण चतुर्वेदी ने एसपी, डीएम और डीआईजी से लेकर मुख्यमंत्री से गुहार तक गुहार लगा चुका है, इसके बावजूद पुलिस ने आज तक इस मामले में केस तक नहीं दर्ज की. आर्यन के पिता का आरोप है कि उनके गांव के ही दबंग संत राम चौबे, अवध राज, प्रेम चौबे, रघुराज चौबे और उसके साथियों ने मिलकर उनके बेटे की हत्या कर दी. आरोपियों से जमीन को लेकर पहले से ही रंजिश चला आ रहा है. आर्यन के पिता ने के मुताबिक पंचायत चुनाव में उनकी पत्नी क्षेत्र पंचायत का चुनाव लड़ रही थी और उनके प्रतिद्वंदी के परिवार में भी बीडीसी का चुनाव लड़ रहे थे. इसी रंजिश को लेकर उनका चुनाव खराब करने के लिए विरोधियों ने आर्यन को मौत के घाट उतार दिया.
26 अप्रैल को आर्यन घर पर अकेला था. मां और उसकी बहन एक शादी में गए हुए थे, जबकि आर्यन के पिता गांव में ही चुनाव प्रचार में व्यस्त थे. तभी सूचना आई कि आर्यन ने फांसी लगा ली. आर्यन के पिता ने बताया की जिन लोगों पर उनके बेटे की हत्या का आरोप है वही लोग पुलिस से पहले उनके बेटे को फांसी से नीचे उतार दिए थे और आर्यन की दादी इस बात की गवाह भी है की हत्यारे आर्यन के कमरे से बाहर निकल रहे थे. इतना ही नहीं संतराम और उसके साथियों ने धमकी भी दी थी कि चुनाव मत लड़ना वरना बेटे की जान से हाथ धो बैठोगी.
पुलिस ने मामले की छानबीन की और शव का पोस्टमार्टम करवाया और इस मामले को आत्महत्या करार देते हुए फाइल बंद कर दी, लेकिन आर्यन के पिता पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं है और अपने बेटे की हत्या के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अधिकारियों के चक्कर काट रहे हैं. आर्यन के पिता बालमुकुंद ने डीआईजी अशोक राय से मिलकर गुहार लगाई मगर नतीजा कुछ नहीं निकला. पुलिस इस मौत को हत्या मानने को तैयार ही नहीं है. एएसपी ने इस मामले को लेकर कहा कि पुलिस जांच कर रही है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आत्महत्या की बात सामने आई है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button