उत्तर प्रदेशगौतम बुद्ध नगर

जेवर एयरपोर्ट के पास बनेगा इलेक्ट्रॉनिक पार्क, 50 हजार करोड़ के निवेश का अनुमान

ग्रेटर नोएडा।  जेवर में बनने जा रहे अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के पास ही यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) 250 एकड़ में इलेक्ट्रॉनिक पार्क (Electronic Park) बनाने की तैयारी कर रहा है जहां 50 हजार करोड़ रुपये का निवेश आने और हजारों लोगों को रोजगार मिलने का अनुमान है। टॉय पार्क, फिल्म सिटी, मेडिकल डिवाइस पार्क और लेदर पार्क जैसी तमाम बड़ी योजनाएं यहां शुरू करने का फैसला करने के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार यीडा के क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिक एसेसीरीज के लिए इलेक्ट्रॉनिक पार्क विकसित करेगी।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों से बनाया जा रहा जेवर एयरपोर्ट यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा) के लिए वरदान साबित हो रहा है। इस एयरपोर्ट की वजह से देश तथा विदेश के बड़े-बड़े निवेशक एयरपोर्ट के नजदीक ही अपना उद्यम स्थापित करने में रुचि दिखा रहे हैं। होटल से लेकर उद्योग तक लगाने के लिए लोग आगे आ रहे हैं।

इलेक्ट्रॉनिक सिटी 250 एकड़ में बसाई जाएगी। यहां मोबाइल, टीवी और तमाम दूसरे इलेक्ट्रॉनिक सामान बनाने वाली राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां आएंगी। जेवर एयरपोर्ट के पास यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे बनने वाली इलेक्ट्रॉनिक सिटी से करीब 50 हजार करोड़ रुपये का निवेश आने की संभावना है। इस इलेक्ट्रॉनिक सिटी में होने वाले निवेश से गौतमबुद्धनगर (नोएडा) की ख्याति तो संसार में फैलेगी ही यीडा का भी नाम होगा।

यीडा द्वारा क्षेत्र में जेवर एयरपोर्ट के बनने के फैसले के बाद से अब तक 1942 निवेशकों को उद्यम स्थापित करने के लिए भूमि उपलब्ध कराई गई है और ये निवेशक 17,272.74 करोड़ रुपये का निवेश कर अपनी फैक्ट्री स्थापित कर रहे हैं। इन निवेशकों के फैक्ट्रियों में 2,65,718 लोगों को रोजगार मिलेगा।

यीडा के अधिकारियों के अनुसार, सबसे अधिक रोजगार जेवर एयरपोर्ट, मेडिकल डिवाइस पार्क, फिल्म सिटी, टॉय पार्क और लेदर पार्क में लोगों को मिलेगा। सबसे अधिक नौकरियां जेवर एयरपोर्ट से लोगों को मिलेंगी। इसके बाद सेक्टर-28 में 350 एकड़ जमीन पर 5,250 करोड़ रुपये की लागत से बनाए जाने वाले मेडिकल डिवाइस पार्क में 20 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। फिल्म सिटी में 15 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। टॉय पार्क और लेदर पार्क में भी दस हजार से अधिक लोग रोजगार पाएंगे। इसी प्रकार इलेक्ट्रॉनिक पार्क भी हजारों लोगों को रोजगार मुहैया कराएगी।

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह के अनुसार, सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक उद्योग को बढ़ावा देने के लिए जो नीतियां बनाई हैं, उनसे बड़े निवेशक बहुत प्रभावित हैं। ये निवेशक सरकार की इंवेस्टर फ्रेंडली नीतियों का लाभ लेते हुए अपना उद्यम राज्य में स्थापित करना चाहते हैं। जिसका संज्ञान लेते हुए यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में मोबाइल इलेक्ट्रॉनिक एसेसरीज कंपनियों के लिए विशेष तौर पर एक इलेक्ट्रॉनिक पार्क विकसित किए जाने का फैसला किया गया। यीडा के सेक्टर-14 या सेक्टर 10 में इसे बनाए जाने की योजना है। इस पार्क के विकसित होने से प्राधिकरण क्षेत्र में न केवल न निवेश आएगा बल्कि लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा।

उन्होंने कहा कि नोएडा इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के पास बनने वाली इलेक्ट्रॉनिक सिटी में करीब 50 हजार करोड़ का निवेश आने की उम्मीद है। यह इलेक्ट्रॉनिक पार्क 250 एकड़ में बसाया जाएगा। यहां मोबाइल फोन, टीवी और तमाम दूसरे इलेक्ट्रॉनिक सामान बनाने वाली राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां आएंगी। इससे स्थानीय युवाओं को बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर मिलेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button