उत्तर प्रदेशहरदोई

जिला अधिकारी के आदेश को ब्लाक कर्मचारी दिखा रहे ठेंगा। प्रधान नहीं छोड़ पा रहीं कुर्शी का मोह

बिलग्राम/हरदोई। छेत्र के अंतर्गत ग्राम रहुला की भ्रस्टाचार की जांच में दोषी पाए जाने पर निलंबित महिला प्रधान गुड्डी देवी पत्नी सुरेश पाल पर लाखों रुपये का धन डकार गई। जिसके बाद जिलाधिकारी हरदोई पुलकित खरे ने दोषी पाए जाने पर महिला प्रधान के प्रशासनिक व वित्तीय पावर दिनाक 23 मार्च 2020 को सीज करते हुये एक त्रिसदस्यीय समिति का गठन करके मुन्नी पत्नी रवीश को ग्राम प्रधान का चार्ज देकर संचालन करने का आदेश पारित किया था।लेकिन खण्ड विकास अधिकारी जिला अधिकारी के आदेश को ठेंगा दिखाते हुए भरस्टाचार में संलिप्त प्रधान को नरेगा के तहत आंख बंद धड़ल्ले से फर्जी मास्टर रोल बनवाकर भुगतान भी खण्ड विकास अधिकारी द्वारा निलंबित प्रधान के चहेते नरेगा जॉब कार्ड धारकों को किया जा चुका है।

इतना ही नही भृष्ट प्रधान द्वारा ग्राम सभा मे अपने चंद चहेतों एक्टिव कार्ड धारकों के नाम हर एक नरेगा के कार्य मे जॉब कार्ड लगवाए ।जो कभी भी नरेगा के काम पर नही जाते लेकिन ब्लाक द्वारा इन्ही के खातों में पैसा डाला जाता है ।फिर यह प्रधान के चहेते मजदूर अपने खाते से पैसा निकाल कर भृष्ट प्रधान को वापस कर देते है। जिससे ब्लॉक में कमीशन निकाल कर लगभग साठ प्रतिशत पैसा प्रधान को बच जाता है। जिला अधिकारी के आदेश दिनाक 23 मार्च के बाद से आज तक लगभग पांच लाख रु का भुगतान नरेगा के तहत बी डी ओ भी अपने डोंगल से कर चुके है।

लेकिन प्रधान ने इस पांच लाख रुपये ने धरातल पर नाम मात्र पांच हजार रुपये का काम नही कराया होगा क्योंकि ग्राम सभा पेय जल गन्दगी से बजबजाती नालियां शौचालय टूटी सड़के विकास के नाम पर आँसू बहा रहा है।बिडम्बना इस बात की है कि ब्लॉक द्वारा फर्जी काम का स्टीमेट पास होकर एम बी यानी फाइलें (फाइनल) हो जाती है।इसके बाद आसानी से इसका भुगतान भी हो जाता है।शायद यही कारण है कि उक्त कार्यों को धरातल पर देखने कोई अधिकारी नही जाता तो इसमें ब्लाक की मिली भगत नही तो क्या कहेंगे?

जिले के तेज तर्रार जिला अधिकारी ने विभाग को स्पस्ट आदेश दिया था कि ग्राम सभा रहुला मे त्रिसदस्यीय समिति की मुखिया मुन्नी का खाता खुलवाकर ग्राम सभा के विकास कार्यो का संचालन करवाया जाय।फिर भी विभाग ने तीन माह बीत जाने जे बाद भी विकास कार्यो में शामिल नही किया गया।जो कहीं न कहीं भ्रस्टाचार में निलंबित ग्राम प्रधान के साथ खड़े हुए नजर आते हैं ब्लॉक कर्मचारी।

वर्तमान चयनित ग्राम प्रधान के अधिकारों पर कब्जा करने पर जुटीं निलंबित ग्राम प्रधान

निलंबित ग्राम प्रधान नहीं छोड़ पा रही कुर्सी का मोह।वृक्षारोपण के बहाने बैनर पर दिखे ब्लॉक कर्मचारियों के नाम।निलंबित प्रधान के क्रियाकलापों में चोली दामन का साथ निभाते हैं ब्लॉक कर्मचारी।ग्राम सभा की भृष्ट प्रधान रविवार पॉच जुलाई को वृक्षारोपण के अवसर पर धड़ल्ले से बैनर में अपना नाम गुड्डी प्रधान रहुला लिखवाकर विभाग के जिम्मेदार ब्लॉक कर्मचारियों के साथ कार्यक्रम संचालित किया गया।जिससे स्पस्ट रूप से प्रतीत होता है कि खाऊ कमाऊ नीति के चलते जिला अधिकारी का आदेश ब्लाक कर्मचारियो को कोई मायने नही रखता।यह बैनर सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो है।

जबकि वृक्षारोपण के दौरान सोशल डिस्टेंसिग का पालन करने की जगह जमकर धज्जियां उड़ाई गईं।अब देखना यह है कि निलंबित ग्राम प्रधान का यह सार्वजनिक सरकारी कार्यक्रम जिसमें ब्लॉक के विभिन्न कर्मचारियों व अधिकारियों के नाम लिखे हुए हैं। उस पर ब्लॉक के वरिष्ठ अधिकारी व जिला प्रशासन क्या एक्शन लेता है।क्योंकि यदि यह कोई व्यक्तिगत कार्यक्रम होता तो उसमें अधिकारियों के कोई नाम नहीं होते।जबकि नियमानुसार हर सरकारी कार्यक्रम में प्रतिभाग करने की अधिकृत तौर पर नवीन ग्राम प्रधान मुन्नी देवी पत्नी रवीश कुमार ही जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button