उत्तर प्रदेशलखनऊ

इलाहाबाद हाईकोर्ट के सुझाव का विहिप ने किया स्वागत, कहा गौ माता को राष्ट्रीय प्राणी घोषित करे सरकार

लखनऊ। विश्व हिन्दू परिषद ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के इलाहाबाद हाईकोर्ट के सुझाव का स्वागत किया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बुधवार को एक महत्वपूर्ण मामले में टिप्पणी करते हुए कहा कि गौ मांस खाना किसी का मौलिक अधिकार नहीं है। केन्द्र सरकार को संसद में विधेयक लाकर गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करना होगा।

हाईकोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि गाय भारत की संस्कृति और संस्कृति को बचाने का काम भारत के हर नागरिक को करना चाहिए, फिर चाहे वह किसी भी धर्म या पंथ का हो। गाय का गोबर और गोमूत्र असाध्य रोगों में लाभकारी है। हाईकोर्ट ने कहा कि गाय को मारने वाले को छोड़ा गया तो वह फिर अपराध करेगा। इसलिए उन लोगों के विरूद्ध कड़े कानून बनाने होंगे जो गाय को नुकसान पहुँचाने की बात करते हैं।

गौ माता को राष्ट्रीय प्राणी घोषित करे केन्द्र सरकार : सुरेन्द्र जैन

विश्व हिन्दू परिषद के प्रवक्ता सुरेन्द्र जैन ने कहा कि गौ हत्या के संबंध में इलाहाबाद उच्च न्यायालय का निर्णय स्वागत योग्य है। एक लम्बे समय से हिन्दु समाज मांग करता आया है कि गौ माता को राष्ट्रीय प्राणी घोषित किया जाना चाहिए। उच्च न्यायालय ने हिन्दू समाज की इस मांग को न केवल स्वीकृति प्रदान की है अपितु इसको बल प्रदान करते हुए केन्द्र सरकार से अपेक्षा की है कि वह गौ माता को राष्ट्रीय प्राणी घोषित करे।

आखिर भारत में गौ हत्या क्यों की जाती है क्या इसलिए हिन्दू आस्थाओं पर चोट पहुंचाने के लिए माननीय उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण बात और कही है इस निर्णय में अगर किसी की आस्थाओं पर चोट पहुंचती है तो इससे देश कमजोर होता है। एक लम्बे समय से निरन्तर इस देश में हिन्दू समाज की आस्थाओं पर चोट की जाती है मिशनरियों के द्वारा जिहादियों के द्वारा और टूल किट गैंग के द्वारा उन्हें समझ में आना चाहिए कि वह केवल हिन्दू समाज का अपमान नहीं करते अपितु देश को कमजोर करने का पाप करते हैं।

अब उन्हें इन सब कामों से बाज आना चाहिएऔर हिन्दू समाज की आस्थाओं का अपमान अब स्वीकार नहीं हो सकता स्वयं न्यायपालिका भी इस पक्ष में खड़ी है। विहिप केन्द्र सरकार से मांग करती है कि गौ माता को राष्ट्रीय प्राणी घोषित करने के लिए जो भी आवश्यक उपाय हो अतिशीघ्र करे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button