आगराउत्तर प्रदेश

आगरा में फर्जी फर्म बनाकर 102 करोड़ टैक्‍स चोरी का मास्‍टरमाइंड गिरफ्तार, 691 करोड़ रुपए के बनाए थे फर्जी बिल

केन्द्रीय जीएसटी विभाग की एक टीम ने फर्जी कंपनियां बनाकर करोड़ों रुपये की टैक्‍स चोरी करने के आरोप में आगरा के एक कारोबारी को गिरफ्तार किया है. सीजीएसटी विभाग ने रविवार को बताया कि केन्द्रीय माल एवं सेवा कर विभाग (Central Goods and Services Tax Department) की टीम ने आज आगरा के सिकंदरा निवासी नितिन वर्मा को गिरफ्तार किया. उन्होंने बताया कि वर्मा पर 100 से अधिक फर्जी फर्म बनाकर करोड़ों रुपये की कर चोरी का आरोप है.

उन्होंने बताया कि वर्मा अपनी फर्जी फर्मों के जरिए 691 करोड़ रुपये की फर्जी बिक्री दिखाकर 100 करोड़ रुपये का आईटीसी इनपुट टैक्स क्रेडिट वसूल चुका था. उन्होंने बताया कि इस मामले में 19 दिसंबर 2019 को सीजीएसटी के उपायुक्त के नेतृत्व में एक टीम ने चार ठिकानों पर छापा मारा था. नितिन वर्मा उस वक्त घर से फरार हो गया था.

पैन और आधार कार्ड प्रतियों की मदद से बनाई फर्जी फर्म

केन्द्रीय माल एवं सेवा कर विभाग की टीम ने बताया कि वर्मा ने थाना हरीपर्वत क्षेत्र में कार्यालय खोला था, जहां से वह होम लोन, पर्सनल लोन, ओडी लिमिट, भूखंड खरीदने-बेचने का काम करता था. इस काम के दौरान उसने लोगों के पैन और आधार कार्ड की प्रतियां जमा कीं और उनकी मदद से फर्जी फर्म पंजीकृत करायीं. उन्होंने बताया कि इन्हीं फर्जी फर्मों की मदद से वर्मा ने सरकार को करोड़ों रुपये राजस्व का नुकसान पहुंचाया है.

केन्द्रीय माल एवं सेवा कर विभाग की टीम के बयान के मुताबिक, सीजीएसटी आयुक्त लल्लन कुमार के निर्देशन और संयुक्त आयुक्त भवन मीना के मार्गदर्शन में सहायक आयुक्त अनिल शुक्ला, अधीक्षक ऋषिदेव सिंह और संजय कुमार ने कर अपवंचन शाखा के निरीक्षक सतीश कुमार सिंह, कपिल कुमार, विपिन कुमार, अजय सोनकर, अनुराग सोनी की मदद से आरोपी नितिन वर्मा को गिरफ्तार किया. विभाग की तरफ से आगे की कार्रवाई की जा रही है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button