उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरवाराणसी

अखिलेश यादव को जन्मदिन पर ओमप्रकाश राजभर ने बधाई और नसीहत दी

वाराणसी। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को उनके 47वें जन्मदिन की बधाई दी। साथ ही नसीहत भी दी कि, वे अहंकार का रास्ता छोड़ दें। वरना 2017 की तरह 2022 में भी सत्ता में वापसी मुश्किल है। सद्बुद्धि में जीवन जिएं। उन्होंने भाजपा सरकार पर भी निशाना साधा। कहा कि, आत्मनिर्भर बनाने की बात कहने वाली सरकार उच्च शिक्षा लिए लोगों को मनरेगा से जोड़ने की बात करने लगी है। चीन में शहीद हुए जवानों की बात के बजाय खाली अपनी वाहवाही बटोर रही है।

वाराणसी सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि, देश और प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है। हत्या, लूट की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही है। जो वादे सरकार ने किए थे, उसमें से कोई भी पूरा नहीं होता नजर आ रहा है। पेट्रोल डीजल का दाम रोज बढ़ रहा है। आज तक यूपी में कितने प्लांट लगे और लोगो को रोजगार मिला? जब वो बाबा थे तो सत्य बोलते थे। अब गुजरात के झूठ पार्टी में शामिल हो गए हैं। अब जो गुजराती दल बोलता है, उतना ही करते हैं।

राजभर ने कहा कि 69 हजार भर्ती मामले में प्रयागराज के तत्कालीन एसएसपी ने जांच में यह पाया कि 8 से 10 लाख रुपए लेकर भर्ती में धांधली की गई। इसमे कई संघ औऱ भाजपा नेताओं का नाम आया। लेकिन अचानक रातोंरात एसएसपी का ट्रांसफर कर दिया जाता है। ये क्या है? देवरिया, कानपुर समेत कई जनपद में लोग पकड़ में आए, क्या करवाई हुई? इनकी सरकार ब्यूरोक्रेट चला रहे हैं। इनको जो लिख के दे दिया जाता है। ये वही कागज पढ़कर बोल देते हैं।

मुख्तार गैंग पर कार्रवाई दिखावा

राजभर ने सवाल उठाया कि डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्या को क्यों नहीं ये अपनी टीम में शामिल करते हैं। इनके 10 ब्यूरोकेट मिलकर सरकार को नचा रहे हैं। ये लोग वही कर रहे हैं। मुख्तार अंसारी से जुड़े लोगों को लेकर पूर्वांचल मऊ समेत जैसे करवाई हो रही है। उसपर ओमप्रकाश राजभर ने कहा कोई करवाई नहीं हो रही। जितने गोमांस व्यापारी हैं। वे सब हिंदू हैं। भाजपा से जुड़े बड़े नेताओं को ये क्यों नहीं पकड़ते हैं? सैयदराजा मार्ग पर जाकर देखिए जितनी गाड़िया ट्रकें चल रही हैं। वे सब बड़े भाजपा नेताओं की चल रही हैं। उसको क्यों नहीं पकड़ते?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button