अमेठीउत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरराजनीतिलाइव टीवी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दो दिवसीय अमेठी दौरे के बाद अस्पतालों का निरीक्षण करते हुए जमकर बरसे कॉन्ग्रेस MLC दीपक सिंह।

अमेठी में 4 और 5 सितंबर को केंद्रीय मंत्री व अमेठी सांसद स्मृति ईरानी अपने दो दिवसीय दौरे पर थी। 5 सितंबर को वह अपना दौरा समाप्त कर वापस नई दिल्ली चली गई । इसके उपरांत 6 सितंबर को विपक्षी पार्टी कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह के द्वारा जगदीशपुर स्थित ट्रामा सेंटर और जनपद मुख्यालय गौरीगंज के असैदापुर स्थित मलिक मोहम्मद जायसी संयुक्त जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया गया । निरीक्षण के दौरान मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कांग्रेस पार्टी के विधान परिषद सदस्य दीपक सिंह अमेठी सांसद व केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर जमकर बरसे ।

उन्होंने कहा कि – अमेठी जिले में 13 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और 30 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के साथ जहां पर हम खड़े हैं जिला अस्पताल और तिलोई के रास्तामऊ स्थित 200 बेड के अस्पताल को कांग्रेस पार्टी ने बनाया था । ट्रामा सेंटर को कांग्रेस पार्टी ने बनाया था । हमारी सांसद यहां पर पर्यटन करने आती हैं और फीता काटती हैं । जो कांग्रेस पार्टी के द्वारा किए गए काम है उन्हीं का फीता काटती हैं । नई दिल्ली में बीजेपी की सरकार है और उत्तर प्रदेश में इनकी सरकार है अर्थात डबल इंजन की सरकार है । लेकिन अस्पतालों में डॉक्टर नहीं है बगैर डॉक्टर के कैसे इलाज हो सकता है ? अगर डॉक्टर होंगे तभी इलाज होगा अभी कोई एक्सीडेंटल मरीज यहां पर आ जाए जिसका गंभीर एक्सीडेंट हुआ हो उसे लखनऊ जाना पड़ सकता है । उसे बाहर जाना पड़ सकता है या फिर उसे प्राइवेट अस्पतालों की शरण लेनी पड़ती है । चाहे वह संजय गांधी अस्पताल हो या फिर इंदिरा गांधी अस्पताल ऐसे लोगों को वहां पर जाना पड़ता है । मुझे लगता है कि भाषण करने से अब सांसद महोदया को बाज आना चाहिए और झूठ बोलने से बाज आना चाहिए । वह अपने ट्वीट में जीरो लगाकर 23 लाख को 0. 23 करोड़ बना सकती हैं । लेकिन डॉक्टर की व्यवस्था नहीं कर सकती हैं । मुझे लगता है कि असत्य वचन से भारतीय जनता पार्टी की सरकार को और सांसद को बाज आना चाहिए । धरातल पर उतर कर काम करना चाहिए क्योंकि अमेठी की जनता ने प्रधानमंत्री भी देखे हैं । बड़े-बड़े नेता भी देखे हैं अंधे के हाथ बटेर लग गया है तो कम से कम 5 साल काम तो कर लें । जिला अस्पताल पूरे जनपद के मरीजों के लिए आवश्यक चीज होती है । यहां पर कम से कम 35 डॉक्टर होने चाहिए । जनपद का यह अस्पताल मात्र 5 डॉक्टरों के भरोसे चल रहा है । यहां पर महिला की डॉक्टर नहीं है एक्सीडेंटल के डॉक्टर नहीं है अन्य कई डॉक्टर नहीं है । मुझे लगता है कि जब यहां के सांसद का काम मात्र भाषण देने से चल जाता है और बयान से चल जाता है तो वह ध्यान नहीं देती है । इस बात पर मैंने कई बार स्वास्थ्य मंत्री से भी कहा है और सदन में सवाल भी पूछे हैं पत्र भी लिखे हैं और बैठकों में सांसद महोदय से भी कहा है लेकिन कार्यवाही नहीं की गई । अगर डॉक्टरों की तैनाती नहीं होती है तो अगली बार जब सांसद महोदया अमेठी पर्यटन पर आएंगी तो यहां पर कांग्रेसी उन से उतरकर पूछेगा कि 13 सीएचसी 30 पीएचसी जिला अस्पताल 200 बेड का अस्पताल और ट्रामा सेंटर कांग्रेस पार्टी की सरकार में बना था भाषण करने आती हैं तो कम से कम डॉक्टर तैनात करा दें अन्यथा उनका रास्ता रोक लेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button