देश

जम्मू कश्मीर: सांप्रदायिक तनाव और डर फैलाने के मकसद से आतंकवादियों ने की ‘सलेक्टेड’ नागरिकों की हत्याएं, डीजीपी दिलबाग सिंह बोले

जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने गुरुवार को आतंकवादियों की ओर से दो टीचर्स की गोली मारकर हत्या करने के बाद कहा कि कश्मीर में नागरिकों, विशेष रूप से अल्पसंख्यकों की सलेक्टेड हत्या का उद्देश्य भय का माहौल बनाना और सदियों पुराने सांप्रदायिक सद्भाव को नुकसान पहुंचाना है. उन्होंने कहा कि जो लोग मानवता, भाईचारे और स्थानीय लोकाचार और मूल्यों को निशाना बना रहे हैं, वो जल्द ही बेनकाब हो जाएंगे.

डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि कश्मीर में कुछ दिनों से नागरिकों को निशाना बनाने की घटनाएं बर्बर हैं. समाज के लिए काम करने वाले और किसी से कोई लेना-देना नहीं रखने वाले निर्दोष लोगों को निशाना बनाया जा रहा है. ये डर का माहौल बनाने और इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश है ताकि कश्मीर में सांप्रदायिक सद्भाव को नुकसान पहुंचाया जा सके.

पिछले पांच दिनों में 7 नागरिकों की हुई हत्या

दो टीचर्स की हत्या से कश्मीर घाटी में पिछले पांच दिनों में मारे गए नागरिकों की संख्या सात हो गई है, जिसमें घाटी के अल्पसंख्यक समुदायों के चार नागरिक शामिल हैं. इनमें से छह शहर में मारे गए. डीजीपी ने कहा कि हमें बैक-टू-बैक हमलों पर खेद है, जिसमें नागरिक मारे गए हैं. हम पिछले मामलों पर काम कर रहे हैं और श्रीनगर पुलिस को कई सुराग मिले हैं और हम जल्द ही इस तरह के आतंकवादी और बर्बर हमलों के पीछे लोगों को पकड़ लेंगे.

डीजीपी ने आगे कहा कि हमला कश्मीर के मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने का एक प्रयास था. साथ ही कहा कि आतंकवादी घाटी में शांति के रास्ते में बाधा डालने के लिए पाकिस्तान के निर्देश पर काम कर रहे हैं. ये कश्मीर के स्थानीय मुसलमानों को बदनाम करने की कोशिश है. ये उन लोगों को निशाना बनाने की साजिश है जो यहां रोटी कमाने आए हैं. ये कश्मीर में सांप्रदायिक सौहार्द और भाईचारे की सदियों पुरानी परंपरा को नुकसान पहुंचाने की साजिश है.

उन्होंने कहा कि आतंकवादी आतंकवादी हैं और वो पाकिस्तान में (सीमा) एजेंसियों के निर्देश पर काम कर रहे हैं ताकि कश्मीर को परेशान रखा जा सके और कश्मीर में शांति के रास्ते में बाधा उत्पन्न की जा सके. डीजीपी ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि कश्मीर के लोग इस साजिश को कामयाब नहीं होने देंगे. हम एक साथ काम करेंगे और उनके उद्देश्य को विफल करेंगे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button