ताज़ा ख़बरदेश

कांग्रेस का फेसबुक पर आरोप, BJP के लिए पक्षपाती है सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, मार्क जुकरबर्ग को चिट्ठी लिखकर उठाई जांच की मांग

कांग्रेस पार्टी ने शुक्रवार को फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को एक पत्र लिखा है, जिसमें भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल में सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही फर्जी खबरों और भड़काऊ कंटेंट की आंतरिक जांच की मांग की गई है. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सोशल मीडिया प्रमुख रोहन गुप्ता ने फेसबुक को पत्र लिखा है और फेसबुक इंडिया के कामकाज की आंतरिक जांच की मांग की. गुप्ता ने एएनआई को बताया, ‘फेसबुक इंडिया के प्लेटफॉर्म पर झूठी खबरें और नफरत फैलाने का जो माहौल है, वो बेहद खतरनाक होता जा रहा है. फेसबुक अब गैर जिम्मेदार बनता जा रहा है.

गुप्ता ने कहा, ‘आज करीब 37 करोड़ लोग भारत में फेसबुक का इस्तेमाल कर रहे हैं और यह उन लोगों के सामने ‘नफरत परोसने’ की बात है. क्या फेसबुक की किसी के प्रति कोई जिम्मेदारी है? और अगर है तो फेसबुक इस जिम्मेदारी को कैसे पूरा कर रहा है?’ गुप्ता ने कहा, ‘इस मामले में तीन तथ्य सामने आए हैं. सबसे पहला- एक रिपोर्ट के मुताबिक, जब फेसबुक के कर्मचारी भारत में फेसबुक के माध्यम से फैलाई जा रही नफरत और फर्जी समाचार सामग्री को अधिकारियों के संज्ञान में लाने की कोशिश करते हैं, तब फेसबुक के अधिकारी कहते हैं कि यह कोई इतना बड़ा मुद्दा नहीं है, यह कोई समस्या नहीं है.’

‘नफरत फैलाने वाले कंटेंट से बीजेपी को भी कोई दिक्कत नहीं’

रोहन गुप्ता ने आगे कहा, ‘यह नफरत भारत के भाईचारे को खोखला कर रही है और भारत को कमजोर बना रही है. ऐसा लगता है कि फेसबुक इंडिया को इससे कोई समस्या ही नहीं है और इससे भी जरूरी बात यह है कि प्लेटफॉर्म पर नफरत फैलाने वाले कंटेंट से बीजेपी को भी कोई दिक्कत नहीं है. इस नफरत के कारण भारत की अखंडता कमजोर पड़ रही है, इससे भी बीजेपी को कोई परेशानी नहीं है, यह कैसा राष्ट्रवाद है?’

उन्होंने कहा, ‘दूसरा तथ्य यह है कि जब फेसबुक पर भड़काऊ सामग्री, फर्जी खबरें फैलाई जा रही थीं, तब सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक इंडिया ने इन समस्याओं पर अपनी आंतरिक रिपोर्टों को नजरअंदाज कर दिया और अपनी टीम में ऐसे कंटेंट को नियंत्रित करने वाले लोगों की संख्या कम घटा दी और बजट को कम कर दिया. गुप्ता ने कहा, ‘इतना ही नहीं, फेसबुक के इस रवैये का फायदा बीजेपी ने उठाया. बीजेपी के लोग गांधी जी, नेहरू जी, पटेल जी, भगत सिंह जी और हमारे नेताओं के बारे में अंधाधुंध झूठ फैलाते हैं. लिहाजा, फेसबुक पर भड़काऊ कंटेंट और झूठी खबरों की बाढ़ सी आ गई है.’

‘2019 का लोकसभा चुनाव जीतने के लिए फैलाईं फर्जी सूचना’

गुप्ता ने कहा, ‘तीसरा तथ्य चौंकाने वाला है. फेसबुक इंडिया की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान BJP-आरएसएस ने चुनाव जीतने के लिए लोगों के बीच फर्जी सूचना, नफरत फैलाई और फेसबुक इंडिया ने भी इसे फैलने दिया. इस जानकारी के बावजूद, फेसबुक ने भड़काऊ और फर्जी पोस्ट पर नकेल कसने वाली अपनी टीम घटा दी.’

उन्होने कहा, ‘फेसबुक इंडिया न केवल अपनी जिम्मेदारियों से बच रहा है, बल्कि झूठ और नफरत फैलाने की सांठगांठ को उजागर भी कर रहा है. लेकिन हम इसकी अनुमति नहीं देंगे. भारत की भूमि का इस्तेमाल झूठ और नफरत फैलाने के लिए नहीं किया जाएगा.’ मुख्य विपक्षी दल ने पिछले साल भी जुकरबर्ग को दो बार पत्र लिखकर फेसबुक की भारतीय टीम की निष्पक्षता पर सवाल उठाए थे.’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button