देश

नवाब मलिक के खिलाफ एक और FIR दर्ज, मानहानि और SC/ST एक्ट के बाद अब महिलाओं से अभद्रता का केस

नवाब मलिक और एनसीबी के जोनल डायरेक्‍टर समीर वानखेड़े के बीच शुरू हुई जंग अब महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस और समीर के परिवार तक भी पहुंच चुकी है. नवाब मलिक ने बुधवार को फडणवीस के खिलाफ बड़ा खुलासा करने का ऐलान किया है. उधर मानहानि के मुकदमों के बाद नवाब मलिक के खिलाफ वानखेड़े परिवार ने औरंगाबाद और समीर की साली ने गोरेगांव थाने में FIR दर्ज कराई है.

मिली जानकारी के मुताबिक एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े की साली हर्षदा दीनानाथ रेडकर ने मंगलवार को गोरेगांव पुलिस में महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक के खिलाफ आईपीसी की धारा 354, 354 डी, 503 और 506 और महिला अश्लील प्रतिनिधित्व अधिनियम- 1986 की धारा 4 के तहत FIR दर्ज कराई है. ये FIR नवाब मलिक के एक ट्वीट के खिलाफ कराई गई है.

राज्यपाल से मिले समीर वानखेड़े के पिता और पत्नी

मंगलवार को समीर वानखेड़े के पिता पिता ध्‍यानदेव काचरुजी वानखेड़े और समीर वानखेड़े की पत्‍नी ने महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोश्‍यारी से मुलाकात की थी. समीर वानखेड़े के पिता ने इस मुलाकात के बाद कहा, ‘मैनें और मेरी पुत्रवधू ने राज्‍यपाल से मुलाकात की, हमनें उन्‍हें ज्ञापन सौंपा है. गवर्नर ने हमसे कहा कि सब कुछ ठीक हो जाएगा.’ समीर वानखेड़े की पत्‍नी क्रांति रेडकर वानखेड़े ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हमनें उन्‍हें सब कुछ बता दिया है, हमनें उन्‍हें कोई शिकायत नहीं दी है. लेकिन ये सच की लड़ाई है और इसे हम लड़ रहे हैं, हमें बस इसे लड़ने के लिए ताकत चाहिए.

नवाब मलिक के खिलाफ कई केस

नवाब मलिक के खिलाफ वानखेड़े परिवार ने 1.25 करोड़ का मानहानि का मुकदमा भी दायर किया है. इससे पहले दो शिकायत समीर वानखेड़े के पिता ने एससी-एसटी एक्‍ट के तहत दी थी, इनमें एक शिकायत वाशिम और दूसरी ओशिवारा के एसीपी को नवाब मलिक के खिलाफ दी गई थी. अब समीर वानखेड़े की साली ने भी एनसीपी के नेता नवाब मलिक के खिलाफ लीगल एक्‍शन लिया है. दरअसल, नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े की साली के खिलाफ भी ट्वीट किया था, इसके बाद उनके खिलाफ पुणे में केस दर्ज किया गया था. वहीं अब वानखेड़े के रिश्‍तेदारों ने औरंगाबाद में भी नवाब मलिक के खिलाफ एससी-एसटी एक्‍ट के तहत के शिकायत दी है.

समीर वानखेड़े की साली ने नबाव मलिक के खिलाफ गोरेगांव थाने में एफआईआर दर्ज करवाई है. इनमें नवाब मलिक के अलावा निशांत वर्मा के खिलाफ आईपीसी की 354, 354 D, 503 और 506 के तहत केस दर्ज हुआ है. नवाब मलिक और निशांत वर्मा ने समीर वानखेड़े की साली के खिलाफ ट्वीट किया था. जिसके बाद ये केस दर्ज किया गया.

मोहित भारतीय के मानहानि मुक़दमे पर नोटिस

मुंबई क्रूज शिप ड्रग्स मामले के सामने आने के बाद राज्य के मंत्री नवाब मलिक ने एनसीबी के अधिकारी और कई अन्य के खिलाफ प्रेस कॉन्फ्रेंस करके और सोशल मीडिया पर सवाल उठाए थे. इसके बाद जमकर आरोप-प्रत्यारोप हुए हैं, अब यह मामला न्याय के लिए कोर्ट में पहुंच गया है. बीते सोमवार को एक मजिस्ट्रेट कोर्ट ने मुंबई भाजपा की युवा इकाई के पूर्व अध्यक्ष मोहित भारतीय की ओर दायर आपराधिक मानहानि की शिकायत पर मंत्री मलिक को नोटिस जारी किया है. अब इस मामले में 29 नवंबर को सुनवाई होगी।

मलिक ने बार-बार क्रूज मामले को फर्जी करार दिया और उन्होंने एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेडे के खिलाफ कई आरोप लगाए हैं. हालांकि, वानखेड़े ने अपने ऊपर लगे आरोपों से इनकार किया है. मोहित ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष दायर अपनी शिकायत में दावा किया कि मलिक ने एनसीबी की छापेमारी और आर्यन खान सहित कई लोगों की गिरफ्तारी को लेकर 9 अक्टूबर को एक प्रेस कांफ्रेस करके उन्हें और उनके रिश्तेदार ऋषभ सचदेव को जानबूझकर बदनाम किया.

सनातन संस्था ने दिया आरोपों पर जवाब

सनातन संस्था पर नवाब मलिक की तरफ से लगाए गए आरोप के बाद अब संस्था ने भी जवाब दिया है. उन्होंने कहा कि मुंबई ड्रग प्रकरण में अत्यधिक हीन स्तर की राजनीति हो रही है. उसमें नवाब मलिक ने स्वयं पर किए गए आरोपों के खुलासे के लिए सत्य न जानते हुए सनातन संस्था के नाम का अनुचित उपयोग किया है. दाऊद की कोई भी संपत्ति सनातन संस्था ने नहीं खरीदी है.

वास्तव में रत्नागिरी के समाचारपत्रों में प्रकाशित समाचारों के अनुसार वह संपत्ति दिल्ली के एडवोकेट अजय श्रीवास्तव ने खरीदी है. संस्था ने कहा कि श्रीवास्तव ने उस स्थान पर छोटे बच्चों पर संस्कार करने के लिए ‘सनातन धर्म पाठशाला’ नाम का गुरुकुल आरंभ करने की घोषणा की है. इसके अलावा सनातन संस्था और एडवोकेट अजय श्रीवास्तव का कोई भी संबंध नहीं है. इसलिए पर्याप्त जानकारी न रखते हुए सनातन संस्था के संदर्भ में इस प्रकार के झूठे आरोप कर नवाब मलिक स्वयं का मजाक न बनाएं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button