अन्यदेशबड़ी खबर

सिद्धू के आरोपों पर सीएम चरणजीत सिंह चन्नी का जवाब- ‘मैं गरीब हूं लेकिन कमजोर नहीं, बेअदबी और ड्रग्स मुद्दे का होगा समाधान’

बेअदबी और ड्रग्स तस्करी के मुद्दों पर पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा अपनी ही पार्टी की सरकार पर निशाना साधे जाने के एक दिन बाद मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने शनिवार को कहा, ‘‘मैं गरीब हो सकता हूं लेकिन कमजोर नहीं हूं’’. उन्होंने कहा कि मामलों को सुलझाया जाएगा. सिद्धू ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी और ड्रग्स तस्करी के मामलों में न्याय दिलाने के लिए उठाए गए कदमों पर राज्य सरकार पर सवाल खड़े किए थे.

चन्नी ने शनिवार को श्री चमकौर साहिब में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि 2015 की बेअदबी की घटनाओं के लिए जिम्मेदार सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और पंजाब पुलिस का एक विशेष जांच दल (SIT) तेजी से इन घटनाओं के मामले में जांच कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं गरीब हो सकता हूं, गरीब परिवार से मेरा नाता हो सकता है लेकिन मैं कमजोर नहीं हूं. सभी मुद्दों का समाधान किया जाएगा.’’

चन्नी ने बेअदबी की घटनाओं के संबंध में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह का जिक्र करते हुए कहा कि एसआईटी जेल जाकर ‘बाबा’ से पूछताछ करेगी. राम रहीम अपनी दो अनुयायियों के साथ बलात्कार के मामले में 2017 में दोषी ठहराए जाने के बाद से रोहतक की सुनरिया जेल में बंद है. डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को गुरु ग्रंथ साहिब की एक प्रति की चोरी के मामले में आरोपी बनाया गया था.

चन्नी ने कहा, ‘‘यह मेरे गुरु से जुड़ा मुद्दा है और पंजाब की अंतरात्मा का सवाल है.’’ उन्होंने यह भी कहा कि राज्य के नौजवानों को नशीले पदार्थों की ओर धकेलने के सभी दोषियों को भी किसी भी कीमत पर नहीं बख्शा जाएगा.

इन मुद्दों पर कार्रवाई का वादा करके सत्ता में आई थी कांग्रेस- सिद्धू

इससे पहले शुक्रवार को सिद्धू ने अपनी ही सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह सिर्फ इतना पूछ रहे हैं कि चन्नी सरकार ने पिछले 50 दिनों में बेअदबी मामले में और ड्रग्स के मामलों पर एक विशेष कार्यबल की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने पर क्या किया है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहता हूं कि अगर आपके पास एसटीएफ की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की हिम्मत नहीं है, तो इसे पार्टी को दें और मैं इसे सार्वजनिक कर दूंगा. मुझमें हिम्मत है.’’

सिद्धू ने तंज कसते हुए कहा कि तीन विशेष जांच दल, सात प्राथमिकी, दो जांच आयोग और बेअदबी मामले के 6 साल बाद क्या राज्य सरकार को केवल यही अधिकारी मिल पाए. उन्होंने कहा कि डीजीपी सहोता पूर्व पुलिस प्रमुख सुमेध सिंह सैनी के पसंदीदा थे. उन्होंने कहा, ‘‘वह…पंजाब का डीजीपी बन जाता है. यह बड़ा सवाल है, यह मेरा नहीं, बल्कि पंजाब के लोगों का सवाल है.’’

सिद्धू ने कहा कि पार्टी बेअदबी और नशीली दवाओं के मुद्दे पर लोगों का सामना नहीं कर पाएगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस 2017 में इन मुद्दों पर कार्रवाई का वादा करके सत्ता में आई थी. उन्होंने एक सवाल के जवाब में इस बात पर जोर दिया कि चन्नी से उनका कोई मतभेद नहीं है. सिद्धू ने कहा, ‘‘मैं उनसे बात कर रहा हूं. मैं उनसे राज्य के लिए, राज्य की भलाई के लिए किये जाने वाले कार्य के लिए बात करता हूं. चरणजीत चन्नी से मेरा कोई मतभेद नहीं है. मैं पंजाब के लिए खड़ा हूं, जो मेरी आत्मा है, केवल इतना ही.’’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button