अन्यउत्तर प्रदेशलखनऊ

दूसरे राज्यों में बढ़ रहे कोविड मामलों को देखते हुए योगी सरकार हुई सतर्क

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों के साथ बैठक की. इस बैठक में सीएम योगी ने कहा कि विभिन्न राज्यों में कोविड के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ रहे हैं. इसे लेकर हमको सावधान रहना होगा. अतिरिक्त सावधानी बरतनी होगी. कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन किया जाना बहुत जरूरी है. रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक कर्फ्यू को प्रभावी बनाया जाए. 10 बजे तक सभी दुकानें/बाजार बंद हो जाएं. यह सुनिश्चित किया जाए कि लोग अनावश्यक सड़कों पर न घूमें.

इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जनपद फिरोजाबाद में बच्चों के साथ-साथ प्रौढ़ लोग भी बीमार हुए हैं. सभी के बेहतर ट्रीटमेंट की व्यवस्था की जा रही है. सभी मरीजों को मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया जाना उचित होगा. आवश्यकता के अनुसार मेडिकल कॉलेज में बेड की संख्या बढ़ाई जाए. हमें सर्विलांस को और बेहतर करना होगा. विशेषज्ञों की टीम फिरोजाबाद में कैंप करें. जरूरत के अनुसार रेजिडेंट डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ की तुरन्त तैनाती की जाए. दवाओं और अन्य जरूरतों की आपूर्ति सुनिश्चित कराई जाए. आगरा और फिरोजाबाद की स्थिति पर शासन स्तर से 24×7 नजर रखी जाए.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एग्रेसिव ट्रेसिंग, टेस्टिंग और त्वरित ट्रीटमेंट की नीति के साथ-साथ तेज टीकाकरण की नीति से उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रित स्थिति में है. टेस्टिंग और टीकाकरण में उत्तर प्रदेश, देश में शीर्ष पायदान पर है. प्रदेश में अब तक सात करोड़ 23 लाख 18 हजार 979 टेस्ट हो चुके हैं. इसी प्रकार, 30 अगस्त तक सात करोड़ 15 लाख 60 हजार से अधिक वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी हैं. छह करोड़ से अधिक प्रदेशवासियों ने टीके की कम से कम एक डोज जरूर ले ली है. इस महत्वपूर्ण कार्य को और तेज किए जाने के प्रयास हों. भारत सरकार से सतत संपर्क बनाए रखा जाए.

मुख्यमंत्री ने कहा कि एटा और बरेली में अराजक तत्वों द्वारा पुलिस की वर्दी पहन कर अवैध वसूली करने और मारपीट करने की वारदात सामने आई है. यह उत्तर प्रदेश पुलिस की साख को खराब करने की साजिश है. ऐसे लोगों पर अविलम्ब कठोरतम कार्रवाई की जाए.

सीएम योगी ने कहा कि स्कूल/कॉलेजों में अन्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति संवर्ग के छात्र-छात्राओं को देय छात्रवृत्ति का भुगतान समय से हो. यह छात्रवृत्ति विद्यार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी है. इसके भुगतान में विलंब न हो. छात्रवृत्ति वितरण की अपडेट की स्थिति की समीक्षा कर मुख्यमंत्री कार्यालय को अवगत कराया जाए.

एक सितंबर से कक्षा एक से पांचवीं तक के विद्यालय खुल रहे हैं. स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल का पूरा ध्यान रखा जाए. स्वच्छता, सैनिटाइजेशन का कार्य हर दिन हो. पठन-पाठन के साथ-साथ बच्चों की सुरक्षा पर भी पूरा ध्यान दिया जाए.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button