अन्य

अमेरिका से सौदेबाजी में जुटा तालिबान! 1000 से ज्यादा लोगों के मुल्क छोड़ने पर लगाई रोक, एयरपोर्ट के पास किया ‘कैद’

तालिबान ने 1000 से ज्यादा लोगों को अफगानिस्तान छोड़ने से रोकने में जुटा हुआ है. इसमें दर्जनों अमेरिकी नागरिक और वे अफगान लोग शामिल हैं, जिनके पास अमेरिका समेत अन्य देशों के वीजा हैं. अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स में इसकी जानकारी दी गई है. द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में बताया गया है कि कई विमान तालिबान से डिपार्चर से मंजूरी दिए जाने का इंतजार कर रहे हैं. रिपोर्ट में कहा गया कि इन विमानों को इसलिए रोका गया है, क्योंकि अमेरिका और तालिबान के बीच बातचीत चल रही है.

ये ऐसे समय पर हो रहा है, जब अमेरिका ने पिछले हफ्ते अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को वापस बुला लिया. तालिबान ने तेजी से अफगानिस्तान के अलग-अलग प्रांतों पर कब्जा जमाते हुए 15 अगस्त को काबुल पर नियंत्रण कर लिया. इससे अफगान सरकार गिर गई और राष्ट्रपति अशरफ गनी को देश छोड़कर भागना पड़ा. अमेरिकी मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि अफगानिस्तान में फंसे विमानों में फिलहाल कोई यात्री सवार नहीं है. देश में फंसे लोगों को एयरपोर्ट के पास में ही रखा गया है. तालिबान के लड़ाके इन लोगों को एयरपोर्ट के अंदर नहीं जाने दे रहे हैं.

अमेरिकियों को देश छोड़ने से तालिबान ने रोका

निकासी अभियान से जुड़े पेंटागन के एक अधिकारी ने कहा कि तालिबान इन लोगों को जाने से रोकना चाहता है क्योंकि वे अमेरिका के साथ किए गए सहयोग के लिए इन लोगों को सजा देना चाहता है. पेंटागन के पूर्व वरिष्ठ अधिकारी मिक मुलरॉय ने कहा कि यदि तालिबान वास्तव में लोगों को सौदेबाजी के लिए इस्तेमाल कर रहा है, तो ये पूरी तरह से अस्वीकार्य है. इस बीच, यूएस हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के वरिष्ठ रिपब्लिकन माइकल मैककॉल ने फॉक्स न्यूज को बताया कि तालिबान ने मजार-ए-शरीफ एयरपोर्ट पर छह विमानों में सवार अमेरिकियों को देश छोड़ने से रोक दिया है.

तालिबान के साथ संचार माध्यम को बनाए हुए है अमेरिका

पिछले शुक्रवार अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका उन नागरिकों के साथ लगातार संपर्क में है, जो अभी भी युद्धग्रस्त मुल्क को छोड़ना चाहते हैं. सैनिकों की अफगानिस्तान से वापसी के कुछ दिन बाद ब्लिंकन ने कहा, ‘हमारी नई टीम कतर की राजधानी दोहा में काम कर रही है. अफगानिस्तान में बचे हुए अमेरिकियों के साथ लगातार संपर्क हो रहा है. हमने उनकी वापसी के लिए मैनेजमेंट टीम को काम सौंपा है.’ ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका तालिबान के साथ संचार के माध्यमों को बनाए रखना जारी रखेगा, ताकि वापसी जैसे मुद्दों पर बातचीत होती रहे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button