खेल-खिलाड़ीबड़ी खबर

भारत के खराब प्रदर्शन पर बोले कोच, IPL और T20 World Cup के बीच मिलता ब्रेक, तो टीम इंडिया को होता फायदा

आईसीसी टी20 विश्व कप 2021 में अपना आखिरी ग्रुप मैच खेलने से पहले ही भारतीय टीम की दावेदारी खत्म हो गई. टूर्नामेंट शुरू होने से पहले खिताब की प्रमुख दावेदारों में से एक भारतीय टीम को ग्रुप राउंड में ही हारकर बाहर होना पड़ा और 9 साल के बाद टीम पहली बार किसी आईसीसी टूर्नामेंट के नॉकआउट राउंड के लिए क्वालिफाई नहीं कर पाई. टीम इंडिया का प्रदर्शन पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ अच्छा नहीं रहा था, जिसके कारण टीम इंडिया को हार मिली और अंततः वही घातक साबित हुई.

भारतीय टीम के इस प्रदर्शन के लिए अलग-अलग कारणों को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है और इसमें से एक बायो-बबल की थकान भी जिम्मेदार मानी जा रही है. टीम के सीनियर गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के इस बयान के बाद टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने भी यही बात कही है. उन्होंने साथ ही कहा है कि अगर आईपीएल 2021 और विश्व कप के बीच भारतीय खिलाड़ियों को थोड़ा आराम मिलता, तो टीम का प्रदर्शन शायद ऐसा नहीं होता.

17 अक्टूबर से ओमान और यूएई में शुरू हुए टी20 विश्व कप से ठीक पहले यूएई में ही भारतीय खिलाड़ी करीब एक महीने तक आईपीएल 2021 के दूसरे हिस्से में व्यस्त थे. कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा, केएल राहुल जैसे खिलाड़ियों ने इस दौरान अपनी-अपनी टीमों के लिए लगभग सभी मैच खेले. आईपीएल शुरू होने से एक हफ्ते पहले तक भारतीय कोहली, रोहित, राहुल, बुमराह और शमी जैसे प्रमुख खिलाड़ी करीब 3 महीने से इंग्लैंड में थे जहां उन्होंने 5 टेस्ट मैच खेले थे. इस दौरान भारतीय खिलाड़ी कई दिन तक बायो-बबल में रहे. यानी लगातार भारतीय खिलाड़ी व्यस्त रहे.

आईपीएल और विश्व कप के बीच ब्रेक से होता फायदा

जाहिर तौर पर टीम के खराब प्रदर्शन के कई कारणों में से एक ये भी रहा, क्योंकि टीम को आराम करने का मौका नहीं मिला. टीम इंडिया के साथ अपना आखिरी वक्त बिता रहे गेंदबाजी कोच अरुण ने नामीबिया के खिलाफ आखिरी मैच से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में इससे जुड़े सवाल के जवाब में कहा,

“6 महीने तक घर से दूर रहना बहुत बड़ी बात है. मुझे लगता है कि पिछले आईपीएल के निलंबित होने के बाद उन्हें एक छोटा ब्रेक मिला था, उसके बाद से खिलाड़ी घर नहीं गए हैं. वे 6 महीने से बायो-बबल में हैं और इससे शरीर पर काफी प्रभाव पड़ता है. आईपीएल और विश्व कप के बीच एक छोटा सा ब्रेक खिलाड़ियों के लिए फायदेमंद हो सकता था.”

अफगानिस्तान की हार से खत्म हुई उम्मीद

भारतीय टीम के सेमीफाइनल में पहुंचने की आखिरी उम्मीद अफगानिस्तान पर टिकी थी, जिसे न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत हासिल करनी थी, लेकिन कीवी टीम ने ऐसी किसी भी अनहोनी को टालते हुए जीत दर्ज की और सेमीफाइनल में जगह बनाई. इसके साथ ही 2013 से आईसीसी ट्रॉफी का इंतजार कर रही भारतीय टीम को अब अगले साल के टी20 विश्व कप तक का इंतजार करना होगा.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button