उत्तर प्रदेशबड़ी खबरलखनऊ

‘शहीद दिवस’और ‘अंतिम अरदास’ में शामिल होंगी प्रियंका गांधी, BKU ने कहा- मंच पर नहीं देंगे जगह

केंद्र सरकार के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों (New Farms Law) का विरोध कर रहे किसान हाल में लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri Violence) में मारे गए चार किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए मंगलवार यानी आज ‘शहीद किसान दिवस’मनाएंगे. इसके अलावा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा आज लखीमपुर खीरी का दौरा करेंगी. इस दौरान वह 3 अक्टूबर को हुई हिंसा में मारे गए किसानों के ‘अंतिम अरदास’ में हिस्सा लेंगी. प्रियंका गांधी वाड्रा लखीमपुर खीरी जाने के लिए लखनऊ एयरपोर्ट से रवाना हो चुकींं हैं.

उधर भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के पदाधिकारी के अनुसार, किसी भी राजनीतिक दल के राजनेता को मंगलवार की अंतिम प्रार्थना में किसान नेताओं के साथ मंच साझा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी. वहां केवल संयुक्त किसान मोर्चा के नेता मौजूद रहेंगे. 40 से अधिक कृषक संगठनों के संघ संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने देश भर के किसान संगठनों और प्रगतिशील समूहों से अपील की कि देश भर में प्रार्थना एवं श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर यह दिवस मनाएं और इसके बाद शाम में मोमबत्ती जलाएं. संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी.

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के एक बयान में कहा गया, 12 अक्टूबर (कल) को एसकेएम के आह्वान पर शहीद किसान दिवस मनाया जाएगा. लखीमपुर खीरी नरसंहार के शहीदों का अंतिम अरदास कल तिकुनिया के साहेबजादा इंटर कॉलेज में होगा. इसके लिए तैयारियां कर ली गईं हैं. श्रद्धांजलि सभा में हजारों किसानों के शामिल होने की उम्मीद है.

मृतक किसानों के लिए घरों के बाहर पांच मोमबत्तियां जलाने की अपील

एसकेएम ने लोगों से अपील की कि मंगलवार शाम आठ बजे अपने घरों के बाहर पांच मोमबत्तियां जलाएं. संगठन ने BJP सांसद अजय मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने पर आश्चर्य जताया जिनके वाहन ने लखीमपुर खीरी में किसानों को कथित तौर पर रौंदा था. उन्‍होंने कहा कि कहा, यह मोदी सरकार के लिए शर्मनाक है कि अजय मिश्रा टेनी को अभी तक बर्खास्त नहीं किया गया है. काफिले में शामिल उनके वाहन से निर्दोष लोगों की हत्या की थी. संगठन ने कहा कि किसान 15 अक्टूबर को दशहरे के दिन BJP नेताओं के पुतले जलाएंगे.

अंतिम अरदास को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम, ड्रोन कैमरों से हो रही निगरानी

लखीमपुर-खीरी के तिकुनिया में मंगलवार को होने वाली अंतिम अरदास व अस्थि कलश यात्रा को लेकर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. सुरक्षा के लिए पीएसी, पैरामिलेट्री, आरएपफ व एसएसबी को भी शहर से लेकर तिकुनिया तक तैनात किया गया है. ड्रोन कैमरों से पुलिस निगरानी कर रही है. संयुक्‍त किसान मोर्चा की ओर से अंतिम अरदास का कार्यक्रम तिकुनिया में रखा गया है. जिसमें भारी संख्या में किसानों के जुटने की संभावना को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. पुलिस ने भी अपनी तैयारी की है. आईजी रेंज लक्ष्मी सिंह और एडीजी जोन एसएन सावत भी जिले में कैंप कर रहे हैं. इसके अलावा सुरक्षा व्यवस्था में पांच आईपीएस, पांच एएसपी और आठ सीओ लगाए गए हैं. इसके अलावा बड़ी संख्या में इंस्पेक्टर और दरोगाओं को भी लगाया गया है. सिपाही भी बड़ी संख्या में लगे हैं.

किसान शोक सभा में राकेश टिकैत भी होंगे शामिल, कर सकते हैं बड़ा ऐलान

किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन के स्पोक्स पर्सन राकेश टिकैत आज लखीमपुर में घटना स्थल तिकुनियां गांव में होने वाली शोक सभा में सम्मिलित होंगे. वहीं कयास ये भी लगाए जा रहे हैं कि किसान नेता गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा की बर्खास्तगी ना होने को लेकर कोई बड़ा एलान भी कर सकते हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button