देशबड़ी खबर

PM मोदी ने त्रिपुरा में PMAY-G लाभार्थियों को जारी की पहली किस्त, कहा- पहले सरकारों में ‘कट कल्चर’ बिना नहीं होता था काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को त्रिपुरा के 1.47 लाख से भी अधिक लाभार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण की पहली किस्त ट्रांसफर की. पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लाभार्थियों के खातों में पैसों को ट्रांसफर किया. लाभार्थियों के बैंक खातों में सीधे 700 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जमा की गई. इस कार्यक्रम में त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब भी हिस्सा ले रहे हैं. वहीं, केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हमारी यही कोशिश है कि देश के सामान्य मानवी को किसी भी योजना के लिए न तो भटकना पड़े और न ही उसके पैसे को किसी बिचौलिए द्वारा छीना जाए. उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री आवास योजना में पारदर्शी ढंग से चयन, घरों की जिओ टैगिंग, ग्रामसभा में नाम का एलान, निष्पक्ष सर्वे और DBT इसी सोच का हिस्सा है. आपको पहले की सरकारें भी याद होंगी, जहां कट कल्चर के बिना कोई काम ही नहीं होता था.

डबल इंजन वाली सरकार विकास में जुटी

पीएम मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, आज प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दी गई पहली किश्त ने त्रिपुरा के सपनों को भी नया हौसला दिया है. मैं पहली किश्त का लाभ पाने वाले करीब-करीब डेढ़ लाख परिवारों को, सभी त्रिपुरा-वासियों को हृदय से बधाई देता हूं. उन्होंने कहा, अब त्रिपुरा को गरीब बनाए रखने वाली, त्रिपुरा के लोगों को सुख-सुविधाओं से दूर रखने वाली सोच की त्रिपुरा में कोई जगह नहीं है. अब यहां डबल इंजन की सरकार पूरी ताकत से, पूरी ईमानदारी से राज्य के विकास में जुटी है.

पहले विकास की गंगा यहां पहुंचने से पहले सिमट जाती थी

प्रधानमंत्री ने कहा, आज देश के विकास को ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना से देखा जाता है. विकास को अब देश की एकता-अखंडता का पर्याय माना जाता है. पहले देश के उत्तरी और पश्चिमी हिस्सों से हमारी नदियां तो पूरब आती थीं. उन्होंने कहा कि लेकिन विकास की गंगा यहां पहुंचने से पहले ही सिमट जाती थी. देश के समग्र विकास को टुकड़ों में देखा जाता था, सियासी चश्मे से देखा जाता था. इसलिए, हमारा पूर्वोत्तर खुद को उपेक्षित महसूस करता था.

कच्चे घर में रहने वाले लोगों को मिला पक्का घर

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने एक बयान में बताया कि त्रिपुरा (Tripura) की अनूठी भू-जलवायु स्थिति को ध्यान में रखते हुए किस्त को जारी किया गया है. इसके लिए खुद पीएम मोदी ने पहल की और अब यहां पर कच्चा घर की परिभाषा को बदला गया है. इस तरह कच्चे घर में रहने वाले लोगों को पक्का घर दिया जा रहा है. मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने पहली किस्त ट्रांसफर करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताया है. ‘प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण’ (Pradhan Mantri Awaas Yojana-Gramin) पीएम मोदी की महत्वकांक्षी योजनाओं में से एक है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button