देशबड़ी खबर

Manipur: आतंकियों ने सेना पर घात लगाकर किया हमला, असम राइफल्स के CO समेत चार जवान शहीद, दो अन्य लोगों की भी मौत

मणिपुर के सिंगनगाट इलाके से एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां आतंकियों ने सेना की टुकड़ी पर घात लगाकर हमला कर दिया है. जिसमें 46 असम राइफल्स के कर्नल विप्लव त्रिपाठी (Col Viplap Tripathi) समेत चार जवान शहीद हो गए हैं. हमले में कर्नल की पत्नी और नाबालिग बेटे की भी मौत हुई है. जानकारी के मुताबिक घटना चुराचंदपुर जिले के सिंगनगाट के सेहकेन गांव में शनिवार सुबह 10 बजकर 30 मिनट पर हुई है. इस हमले के पीछे मणिपुर के चरमपंथी संगठन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) का हाथ माना जा रहा है.

सेहकेन जिला मुख्यालय चुराचंदपुर से लगभग 65 किलोमीटर दूर बेहियांग क्षेत्र में एक सीमावर्ती गांव है. सेना ने आतंकियों पर कार्रवाई के लिए ऑपरेशन शुरू कर दिया है (Manipur Extremist Outfit). जिस समय असम राइफल्स यूनिट के कमांडिंग अफसर के काफिले पर घात लगाकर हमला किया गया, तब काफिले में त्वरित प्रतिक्रिया टीम के सदस्य और अफसर के परिवार वाले शामिल थे. मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई को पुष्टि की है कि घात लगाकर किए गए हमले में कमांडेंट और जवानों के शहीद होने समेत उनके परिवार के लोगों की मौत हुई है.

मुख्यमंत्री ने घटना की निंदा की

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह (N. Biren Singh) ने ट्वीट करते हुए घटना की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट में लिखा है, ’46 असम राइफल्स के काफिले पर हुए कायरतापूर्ण हमले की कड़ी निंदा करता हूं, जिसमें आज सीसीपुर में सीओ और उनके परिवार सहित कुछ कर्मियों की मौत हो गई है. राज्य बल और अर्धसैनिक बल पहले से ही उग्रवादियों को पकड़ने का काम कर रहे हैं. दोषियों को न्याय के कटघरे में खड़ा किया जाएगा.’

आतंकी संगठन है पीएलए

इस हमले के लिए पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को जिम्मेदार माना जा रहा है. इसका गठन साल 1978 में हुआ था. बाद में भारत सरकार ने इसे आतंकी संगठन घोषित कर दिया था (PLA Attack in Manipur). ये संगठन मणिपुर में भारतीय सुरक्षाबलों पर धोखे से हमले करने के लिए जाना जाता है. इसका गठन बिश्वेसर सिंह ने किया था. आतंकी संगठन पीएलए स्वतंत्र मणिपुर की मांग करता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button