देशबड़ी खबर

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आतंकियों से मुठभेड़ में एक अधिकारी और जवान शहीद, ऑपरेशन के चलते जम्मू-पुंछ-राजौरी हाईवे बंद

काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन के तहत जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में गुरुवार देर रात एक काउंटर टेरर ऑपरेशन के दौरान कार्रवाई में भारतीय सेना के एक अधिकारी और एक जवान शहीद हो गए. इस बारे में सेना की तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है.  पुंछ जिले के नर खास वन, मेंढर उपमंडल में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच चल रहे एनकाउंटर में दोनों तरफ से गुरुवार शाम को फायरिंग हुई. इस दौरान एक जूनियर कमीशंड अधिकारी और एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गए थे. भारतीय सेना ने बताया कि ऑपरेशन अभी भी जारी है. जम्मू-पुंछ-राजौरी हाईवे को जारी ऑपरेशन के चलते बंद कर दिया गया है. मुठभेड़ को लेकर क्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.

रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता के अनुसार, मेंढर संभाग के नार खास वन क्षेत्र में बृहस्पतिवार शाम एक आतंकवाद रोधी अभियान में जेसीओ और एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गए थे. दोनों की ही मौत हो गई है. उन्होंने बताया कि अभियान अब भी जारी है. जवान का शव मुठभेड़ स्थल से निकाल लिया गया और जेसीओ का शव अभी वहां से निकाला जाना बाकी है. पहाड़ी और जंगली इलाके के कारण अभियान में मुश्किल आ रही है. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को कहा था कि पुंछ में सुरक्षा बलों पर हाल ही में हुए हमले में शामिल आतंकवादी पिछले दो से तीन महीनों से इलाके में मौजूद थे. इस हमले में एक जेसीओ सहित सेना के पांच जवान शहीद हो गए थे. राजौरी-पुंछ क्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक विवेक गुप्ता ने कहा कि आतंकवादियों को घेर लिया गया है. यह समूह दो-तीन महीने से इलाके में मौजूद था.

सेना ने शुरू किया तलाशी अभियान

दरअसल, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सुरक्षा बलों को पुंछ सेक्टर में आतंकियों के मौजूद होने की खबर मिली थी. जिसके बाद सेना के जवान वहां पहुंचे और तलाशी अभियान शुरू किया. इसी दौरान सेना पर आतंकियों की तरफ से गोलीबारी शुरू कर दी गई. सूत्रों के मुताबिक इस आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान मुठभेड़ में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) और सेना के जवान शहीद हो गए. अधिकारियों ने कहा कि मुठभेड़ आतंकवादियों के उसी समूह के साथ हो रही है, जिन्होंने 10 अक्टूबर की रात सुरक्षा कर्मियों के एक समूह पर गोलीबारी की थी. सुरनकोट में डेरा की गली में मुठभेड़ के दौरान कार्रवाई में सेना के एक अधिकारी और चार सैनिक मारे गए थे.

लगातार जारी है मुठभेड़

इससे पहले भी पुंछ जिले में आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान मुठभेड़ में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) और सेना के 4 जवान शहीद हो गए थे. साथ ही अनंतनाग जिले में भी सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ हुई, जिसमें सेना ने एक आतंकवादी को मार गिराया. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने जिले के वेरिनाग इलाके के खागुंड में घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था.

दरअसल, घाटी में अल्पसंख्यकों की आतंकियों द्वारा हत्या किए जाने के बाद सेना ने तलाशी अभियान तेज कर दी है. हाल में हुई एक मुठभेड़ में सेना ने एक आतंकी को मार गिराया था, जबकि एक पाकिस्तानी आतंकी फरार हो गया था. इस कड़ी में रविवार को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पिछले हफ्ते मोहम्मद शफी लोन की हत्या की साजिश में शामिल आतंकियों के 4 सहयोगियों को गिरफ्तार किया था.

आतंकवाद विरोधी अभियान तेज

दरअसल, कश्मीर में अल्पसंख्यक नागरिकों की लक्षित हत्याओं के बाद सुरक्षा बलों द्वारा आतंकवाद विरोधी अभियान तेज करने के बाद पिछले छह दिनों में छह मुठभेड़ों में नौ आतंकवादी मारे गए हैं. जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के शीर्ष कमांडर शमीम अहमद सोफी की हत्या के रूप में बड़ी सफलता के अलावा, आठ अन्य आतंकवादी को मार गिराया गया. इसमें आकिब बशीर कुमार, इम्तियाज अहमद डार, यावर गनी डार, दानिश हुसैन डार, यावर हसन नाइकू, मुख्तार अहमद शाह, खुबैब अहमद नेंगरू और उबैद अहमद डार का नाम शामिल है.

(भाषा के इनपुट के साथ)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button