देशबड़ी खबर

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले राहुल गांधी- धारा 144 के बीच पीड़ितों से मिलने लखीमपुर खीरी जाऊंगा, दो सीएम होंगे साथ, सरकार से नहीं मिली है इजाजत

लखीमपुर खीरी की हिंसा, प्रियंका गांधी वाड्रा की गिरफ्तारी और पीड़ित परिवारों से मिलने से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा रोके जाने पर राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और यूपी व केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि वो दो नेताओं के साथ लखीमपुर खीरी जाएंगे. राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘मैं वहां जाकर जमीनी हालत को जानना और समझना चाहता हूं, क्योंकि ये किसी को नहीं पता है और सच वहां जाकर ही पता लगेगा.’ दरअसल, कांग्रेस पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ राहुल गांधी लखीमपुर खीरी जाने वाले थे. इसके लिए उन्होंने यूपी सरकार से इजाजत भी मांगी लेकिन उन्हें इजाजत नहीं मिली.

राहुल गांधी ने कहा कि कल प्रधानमंत्री मोदी लखनऊ गए थे लेकिन वो लखीमपुर खीरी नहीं जा सके. उन्होंने पोस्टमॉर्टम पर सवाल उठाते हुए कहा, लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में पोस्टमॉर्टम ठीक से नहीं किया गया और जो भी इसके खिलाफ बोल रहा है उसे बंद कर दिया जा रहा है. राहुल ने कहा, ‘कुछ समय से हिंदुस्तान के किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है. किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा है, बीजेपी के होम मिनिस्टर और उनके पुत्र का नाम आ रहा है, लेकिन उन पर कोई एक्शन नहीं हुआ.’ उन्होंने कहा, ‘दो सीएम के साथ हम लखनऊ और लखीपुर खीरी जाने की कोशिश करेंगे.’

‘यूपी में अपराधी कुछ भी कर सकते हैं’

राहुल गांधी ने कहा कि आज वो लखीमपुर जाने की कोशिश करेंगे. धारा 144 के तहत 5 लोगों के एक जगह एकत्रित होने पर पाबंदी होती है इसलिए उनके साथ दो कांग्रेस नेता होंगे. यानी कुल तीन लोग जाएंगे. राहुल ने यूपी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि उनके एमएलए ने भी रेप किया था. हम मामला नहीं उठाते तो वो भी दब जाता. प्रदेश में ये नए तरीके की राजनीति हो रही है. यहां अपराधी कुछ भी कर सकते हैं.

उन्होंने कहा, इस सरकार में जो मारते हैं वो जेल के बाहर घूमते हैं और जो मर रहे होते हैं उन्हें अंदर कर दिया जाता है. राहुल गांधी ने कहा कि लखीमपुर खीरी जाने से सिर्फ हमे रोका जा रहा है, बाकी पार्टियों को इजाजत दे दी गई है. हमारा काम मुद्दे उठाना है. सरकार चाहती है कि हम ये न करें.

‘प्रियंका की गिरफ्तारी पर बोले- इससे फर्क नहीं पड़ता’

राहुल गांधी ने कहा, हाथरस में हमने मुद्दे उठाए थे, तभी कार्रवाई हुई. जिन किसानों को मारा गया, जिनका हक छीना जा रहा है, हम उनके लिए लड़ रहे हैं. प्रियंका गांधी के साथ हुई जोर-जबरदस्ती और गिरफ्तारी पर उन्होंने कहा कि हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. हमें इसकी सालों से ट्रेनिंग मिली हुई है.

इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लखीमपुर खीरी की हिंसा और प्रियंका गांधी वाड्रा को गिरफ्तार किए जाने को लेकर मंगलवार को सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि किसानों को गाड़ी से कुचलने वाले केंद्रीय मंत्री के पुत्र को हिरासत में नहीं लिए जाने का मतलब यह है कि देश का संविधान खतरे में है. उन्होंने जोर देकर यह भी कहा कि प्रियंका गांधी एक सच्ची कांग्रेसी हैं और डरने वाली नहीं हैं तथा उनका सत्याग्रह जारी रहेगा.

राहुल गांधी ने लखीमपुर में किसानों को गाड़ी से कुचलने से संबंधित एक कथित वीडियो को साझा करते हुए फेसबुक पोस्ट में कहा था, ‘एक मंत्री का बेटा अगर अपनी गाड़ी के नीचे सत्याग्रही किसानों को कुचल दे, तो देश का संविधान ख़तरे में है. अगर वीडियो के सामने आने के बाद भी उसे हिरासत में ना लिया जाए तो देश का संविधान ख़तरे में है. अगर एक महिला नेता को 30 घंटे तक बिना प्राथमिकी के हिरासत में रखा जाए तो देश का संविधान ख़तरे में है.’ उन्होंने यह दावा किया था, ‘अगर कत्ल हुए पीड़ितों के परिवार से किसी को ना मिलने दिया जाए तो देश का संविधान ख़तरे में है. अगर ये वीडियो किसी को दुखी नहीं करता तो मानवता भी ख़तरे में है.’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button