उत्तर प्रदेशबड़ी खबरमेरठ

क्रांतिधरा को सीएम ने किया नमन, संबोधन में ​कहा- मेरठ की पहचान खेल उत्पाद से

मेरठ। स्पोर्ट्स नगरी मेरठ में आज सीएम योगी आदित्यनाथ का आगमन हुआ। इस मौके पर सीएम ने टौक्यो ओलपिंक में पदक विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया। समारोह का आयोजन सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय मेरठ में हुआ। इसके साथ ही देश में आयोजित होने वाला पहला समारोह था,जिसमें 17 पैरालंपिक विजेताओं के साथ पूरे प्रदेश के दो हजार से अधिक दिव्यांग खिलाड़ी शामिल हुए। सीएम योगी आदित्यनाथ ने खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए अपने भाषण में कहा कि मेरठ की बात खेल उत्पाद से होती है और जाना भी जाता है। इसके साथ ही कहा हम सभी का दायित्व बनता है कि हम इनका सम्मान करें। सीएम ने अपने संबोधन में कही ये बातें।

बता दें कि मेरठ से अनेकों प्रतिभाशाली खिला​ड़ी विदेशों तक में देश का नाम रोशन कर रहे हैं। कोई सा भी खेल हो खिलाड़ियों ने अपना खूब दमखम दिया है। इसी बीच आज सीएम योगी आदित्यनाथ ने टौक्यों पैरालंपिक में पदक विजेताओं का सम्मान किया। सीएम योगी को साढ़े ग्यारह बजे मेरठ पहुंचना था। लेकिन उनके कार्यक्रम में थोड़ा विलंब हुआ। सीएम योगी आदित्यनाथ गाजियाबाद से वाया सड़क मार्ग मेरठ पहुंचे। वहीं भाजपा के जनप्रतिनिधि समारोह स्थल पर सुबह ही पहुंच गए। वहीं सीएम की सुरक्षा के मद्देनजर शहर भर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए गए।

कृषि विश्वविद्यालय पहुंचकर सीएम योगी ने सबसे पहले खेल उत्पाद प्रदर्शनी का अवलोकन किया। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंच पर पहुंचे। सीएम योगी ने अपने संबोधन में कहा कि 1857 की क्रांति का बिगुल फूंकने वाली क्रांति धरती को नमन करता हूं। कोरोना महामारी के बावजूद मोदी के प्रोत्साहन से केंद्रीय खेल अनुराग ठाकुर के नेतृत्व में जो कार्य किया है वह अब तक का बेहतरीन प्रदर्शन है। हमारा सभी का दायित्व बनता है कि हम इनका सम्मान करें। मेरठ की बात खेल उत्पाद से होती है। और जाना भी जाता है। हमारी सरकार ने 2018 में एक जनपद एक उत्पाद की योजना शुरू की। इसके माध्यम से निवेश का माहौल बन सके।

मेरठ के खेल उत्पाद की दुनिया के अंदर डिमांड- सीएम

इसके साथ ही सीएम ने आगे कहा कि अब जल्द खेल विवि का निर्माण शुरू होने जा रहा है। मेरठ में खेल विवि हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के नाम से जानी जाएगी। साथ ही कहा कि मेरठ के खेल उत्पाद की दुनिया के अंदर डिमांड है। पहले कमी दिखाई देती थी, लेकिन हमारी सरकार ने इसे आगे बढ़ाया है। हमारे प्रधानमंत्री ने खिलाड़ियों की उत्साह को महसूस किया। वहीं समारोह के दौरान अपने भाषण में केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार का टोक्यो पैरालंपिक में भाग लेने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित करने का फैसला सराहनीय है। राज्य में खेलों को बढ़ावा देने पर मेरी राज्य के खेल मंत्री और सीएम से चर्चा हुई। मुझे विश्वास है कि यूपी भविष्य में देश को और खिलाड़ी देगा।

राज्य केंद्र सरकार ने प्रदेश में बनाए 71 स्टेडियम- सीएम

इसके साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने पैरालंपिक में भाग लेने वाले गौतमबुद्धनगर जिलाधिकारी सुहास एल. वाई को लेकर भी कई बाते कहीं। सीएम ने सुहास एल. वाई की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने कोराना के समय तैनाती दी ​थी। उन्होंने टीम मैनेजमेंट का परिचय करते हुए शानदार कार्य किया। इसके साथ ही सुहास एल. वाई ने बैडमिंटन खेल में परचम लहरा दिया। जिसके चलते अब उत्तर प्रदेश सरकार ने डीएम सुहास को पांच वेतन वृद्धि की घोषणा की है। साथ ही सरकार ने तय किया है कि जो कोच ओलंपिक, पैरालंपिक में गए थे, उन्हें भी 10-10 लाख रुपये दिए जाएंगे। केंद्र और राज्य सरकार ने प्रदेश में 71 स्टेडियम बनाये है। 16 खेलो के लिए 19 जनपदों में 44 छात्रावास संचालित है। इसके साथ ही अर्जुन, ध्यानचंद, पुरस्कार से सम्मानित खिलाड़ियों को 20 हज़ार रुपये वित्तीय मासिक सहायता दी जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button