उत्तर प्रदेशबड़ी खबरलखनऊ

लखनऊ में कैंसर संस्थान, बुलंदशहर में मेडिकल कॉलेज का नाम कल्याण सिंह के नाम पर होगा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के नाम पर लखनऊ कैंसर संस्थान और बुलंदशहर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज का नाम होगा। यह फैसला निवर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल्याण सिंह के सम्मान में लिया है। पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान तथा हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह  का शनिवार रात लखनऊ के संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसजीपीजीआई) में निधन हो गया था।  वह 89 वर्ष के थे और पिछले कुछ समय से बीमार थे।

कल्याण सिंह के नाम पर छह जिलों की सड़कों का होगा नामकरण

उत्तर प्रदेश सरकार राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह के नाम पर प्रदेश के छह जिलों की सड़कों का नामकरण करेगी। उप मुख्यमंत्री ने केशव प्रसाद मौर्य ने ऐलान किया था कि अयोध्या, लखनऊ, प्रयागराज, अलीगढ़, बुलंदशहर और एटा की एक-एक सड़कों का नामकरण कल्‍याण सिंह के नाम पर किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘राम मंदिर के लिए उनके योगदान को आने वाली और वर्तमान पीढ़ी कभी भुला नहीं पाएगी। उन्होंने राम और राम भक्तों के लिए अपनी सत्ता कुर्बान कर दी लेकिन किसी राम भक्त पर कोई आंच नहीं आने दी, ऐसे बाबूजी के नाम पर सड़कों का नामकरण किया जाएगा। इसके लिए अधिकारियों को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दे दिये गये हैं।’’

सोमवार को बुलंदशहर जिले के नरौरा में हुआ अंतिम संस्कार

कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर का सोमवार को बुलंदशहर जिले के नरौरा में गंगा नदी के तट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। कल्याण सिंह के पुत्र और एटा से भाजपा सांसद राजवीर सिंह ने ‘जय श्री राम’ और ‘कल्याण सिंह अमर रहे’ के नारों के बीच मुखाग्नि दी। कल्याण सिंह के पौत्र राज्यमंत्री संदीप सिंह भी मुखाग्नि प्रक्रिया में शामिल हुए। कल्‍याण सिंह का पार्थिव शरीर दोपहर बाद अलीगढ़ के अतरौली स्थित लोक निर्माण विभाग के अतिथि गृह से एक लंबे काफिले के साथ नरौरा पहुंचा। इसके पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को अलीगढ़ के अतरौली पहुंचकर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख नेताओं में शुमार किए जाने वाले कल्याण सिंह के अंतिम दर्शन कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि उनके निधन से दबे, कुचले और पिछड़ों ने अपना एक हितचिंतक गंवाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button