उत्तर प्रदेशबड़ी खबर

योगी सरकार ने दी नाइट कर्फ्यू में 1 घंटे की राहत, सीएम ने कोविड प्रोटोकॉल का पालन ना करने वालों पर कार्रवाई करने के दिए निर्देश

उत्तर प्रदेश में कोरोना के घटते मामलों को देखते हुए योगी सरकार ने नाइट कर्फ्यू के समय में एक घंटे की राहत दी है. अब तक राज्य में नाइट कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक होता था, लेकिन अब नाइट कर्फ्यू का समय रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक हो गया है. हालांकि छूट के ही साथ सीएम योगी ने आम जनता से कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन को भी कहा है. और लापरवाही होने पर कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है.

पिछले 24 घंटे की अगर बात करें तो राज्य में 1 लाख 85 हजार 793 सैम्पल की टेस्टिंग में 64 जिलों में संक्रमण का कोई नया केस नहीं आया है. 10 जिलों में एक अंक में मरीज पाए गए हैं. वर्तमान में प्रदेश में एक्टिव मामलों की संख्या 227 रह गई है. सीएम ने कहा कि यह सतर्कता और सावधानी बरतने का समय है. थोड़ी सी लापरवाही संक्रमण को बढ़ाने का कारक बन सकती है.

राज्य में कोविड ना फैले इसके लिए जरूरी उपाए करें

सीएम ने बताया कि अब तक 7 करोड़ 36 लाख 38 हजार 873 कोविड सैम्पल की जांच की जा चुकी है. पिछले 24 घंटे में हुई टेस्टिंग में 12 नए मरीजों की पुष्टि हुई है. जबकि 31 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए है. प्रदेश में अब तक 16 लाख 86 हजार 369 प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं. इस स्थिति को और बेहतर करने के लिए ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट की नीति के अनुरूप सभी जरूरी प्रबंध किए जाएं.

15सितंबर तक बंद रहेंगे आंगनबाड़ी केंद्र

कोविड संक्रमण केस बढ़ने की आशंका के चलते निदेशालय,बाल विकास सेवा व पुष्टाहार ने सभी जिला कार्यक्रम अधिकारियों को विशेष सतर्कता के चलते आंगनबाड़ी केंद्रों को 15 सितंबर तक बंद करने के निर्देश दिए हैं. इसके चलते इस दौरान आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां केंद्र पर पहुंचेंगी और पोषाहार की आपूर्ति डोर-टू-डोर करेंगी.

बाल विकास सेवा और पुष्टाहार की निदेशक,डॉ सारिका मोहन के जारी आदेश में आंगनबाड़ी केंद्रों पर आने वाले तीन से आठ साल के बच्चों को संक्रमण की आशंका के चलते 15 सितंबर तक न आने के निर्देश जारी किए हैं. डीपीओ डॉ अनुपमा शॉडिल्य ने बताया कि निदेशालय से मिले आदेश के मुताबिक आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को आना है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button