उत्तर प्रदेशप्रयागराजबड़ी खबर

महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के मामले में प्रयागराज पुलिस ने गठित की SIT, जांच हुई तेज

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि ( Mahant Narendra Giri Suicide case) की संदिग्ध मौत के मामले में जांच तेज हो गई है. गिरि की मौत के मामले की जांच के लिए प्रयागराज पुलिस (Prayagraj Police) ने विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया है. वहीं पुलिस मामले में मुख्य आरोपी आनंद गिरि को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है.

महंत नरेंद्र गिरि सोमवार की शाम अपने मठ में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी. पुलिस को महंत नरेंद्र गिरी के शव के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है. जिसमें महंत ने अपने शिष्य आनंद ग‍िर‍ि से दुखी होने की बात कही है. जिसके बाद उत्तराखंड पुलिस की मदद से उनके शिष्य आनंद गिरि को सोमवार देर रात को ही हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया गया था. जिसके बाद आज मंगलवार को प्रयागराज पुलिस ने मामले में एसआईटी गठित है.

सुसाइड नोट में मानसिक रूप से परेशान होने की कही बात

दरअसल महंत नरेंद्र गिरी के पास से मिले सुसाइड नोट में आनंद गिरी, बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी पर मानसिक तौर से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया है. जिसके बाद पुलिस ने तीनों को हिरासत में ले लिया है. पुलिस के मुताबिक 7 पेज के सुसाइड नोट में महंत ने मानसिक रूप से परेशान होने की बात कही है.

घटना का होगा पर्दाफाश, दोषी को मिलेगी सजा: CM योगी

वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज प्रयागराज के बाघंबरी मठ पहुंचकर महंत नरेंद्र गिरि को श्रद्धांजलि अर्पित की. इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, कल की घटना को लेकर बहुत से साक्ष्य इकट्ठे किए गए हैं. पुलिस की एक टीम, यहां के एडीजी जोन, आईजी रेंज और डीआईजी प्रयागराज, मंडलायुक्त प्रयागराज सभी अधिकारी एकसाथ मिलकर इस काम को आगे बढ़ा रहे हैं. एक-एक घटना का पर्दाफाश होगा और दोषी को अवश्य सजा मिलेगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button