देशबड़ी खबर

मनीष तिवारी का सिद्धू पर निशाना, कहा- जिन्हें मिली जिम्मेदारी वो समझ नहीं सके, पंजाब के हलचल से पाकिस्तान को होगा फायदा

पंजाब में सियासी उठापटक के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद मनीष तिवारी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह की जमकर तारीफ की है और वर्तमान सियासी हलचल को प्रदेश और देश के लिए खतरनाक बताया है. तिवारी ने कहा कि वर्तमान में पंजाब में जो कुछ भी हो रहा है उससे सबसे ज्यादा खुशी पाकिस्तान और आईएसआई को होगी. उन्होंने कहा, ‘पंजाब के एक सांसद के रूप में, मैं पंजाब में हो रही घटनाओं से बेहद व्यथित हूं. पंजाब में शांति अत्यंत कठिन थी. 1980-1995 के बीच उग्रवाद और आतंकवाद से लड़ने और पंजाब में शांति वापस लाने के लिए 25,000 लोगों ने बलिदान दिया, जिनमें से अधिकांश कांग्रेसी थे.’

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा, ‘पंजाब सीमावर्ती राज्य है, यह मुख्य रूप से कृषि कानूनों के खिलाफ लोगों में आक्रोश के कारण तीव्र सामाजिक उथल-पुथल से गुजर रहा है. इस स्थिति में, अगर इस तरह की उथल-पुथल सार्वजनिक तौर पर होंगे, तो इसका सीमावर्ती राज्य पंजाब की स्थिरता पर सीधा और गंभीर प्रभाव पड़ेगा.’

कैप्टन के खून में राष्ट्रवाद

तिवारी ने कैप्टन की तारीफ में कहा कि अमरिंदर सिंह ने जो भविष्यवाणी की थी वह सच हो रही है. कैप्टन अमरिंदर सिंह बड़े कद के नेता हैं, वह मेरे दिवंगत पिता के करीबी दोस्त थे. हम एक-दूसरे को दशकों से जानते हैं, राष्ट्रवाद उनके खून में है, इसलिए मुझे लगता है कि उन परिस्थितियों में, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बेहतर फैसला लिया. उनका हर फैसला देश हित में था.

उन्होंने कहा, ‘मैं हमेशा इस पर सोचता हूं कि जब आशा कुमारी पंजाब की प्रभारी थीं तो ऐसा उस समय क्यों नहीं हुआ. मुझे इस बात को कहने में कोई संकोच नहीं है कि जिन लोगों को जिम्मेदारी दी गई थी, वो पंजाब की संवेदनशीलता और परिस्थिति को नहीं समझ सके. क्योंकि पाकिस्तान की तरफ से रोज वहां घुसपैठ होती है, ड्रोंस भेजे जाते हैं, हथियार भेजे जाते हैं. इन सब चीजों को संज्ञान में रखते हुए सबसे पहली प्राथमिकता ये होनी चाहिए थी कि पंजाब की राजनीतिक स्थितरता को बहाल रखा जाए.’

जिन्हें जिम्मेदारी मिली वो पंजाब को समझ नहीं पाए

तिवारी ने सिद्धू पर बिना नाम लिए निशाना साधा और कहा, ‘दुर्भाग्यपूर्ण बात ये है कि जिन्हें जिम्मेदारी दी गई थी वो पंजाब को समझ नहीं पाए. कैप्टन अमरिंदर सिंह हम सबलोगों के बुजुर्ग हैं और पंजाब के बेहद कद्दावर नेता हैं. जो राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों को बेहतर तरीके से समझते हैं. इसलिए ये बहुत जरूरी है कि पंजाब में राजनीतिक स्थिरता बहाल होनी चाहिए. चुनाव एक पहलू है, लेकिन राष्ट्र हित दूसरा पहलू है.’

पंजाब के हलचल से पाकिस्तान को होगी खुशी

पार्टी में मचे घमासान की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा, ‘वर्तमान में पंजाब की राजनीतिक स्थिरता को बहाल किए जाने की जरूरत है. मैं अभी-अभी एक क्षेत्रीय सुरक्षा सम्मेलन से लौटा हूं और मैं आपको बता सकता हूं कि अगर पंजाब की अस्थिरता पर किसी को खुशी है तो वो पाकिस्तान को है. उनको लगता है कि पंजाब में राजनीतिक अस्थिरता बढ़ती है तो उनको फिर अपने काले मंसूबों को अंजाम देने का एक और मौका मिलेगा.’

तिवारी ने कहा, ‘पंजाब में सुलझे हुए लोग हैं. वहां से कांग्रेस के 10 सांसद हैं. अधिकतर लोग वो हैं जिन्होंने आतंकवाद की आग में अपने परिवार को न्योछावर किया है. वो देश और प्रदेश हित को समझते हैं. उनसे और बाकी सुलझे हुए लोगों से बात करके, पहली प्राथमिकता ये है कि पंजाब की राजनीति में स्थिरता लाई जाए.’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button