उत्तर प्रदेशबड़ी खबर

पंचायत चुनाव से लेकर पांच राज्यों के चुनाव अकेले लड़ेगी बसपा: मायावती

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कांशीराम की जयंती के अवसर पर उन्हें याद कर उनके चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए. मायावती ने कहा कि कांशीराम की प्रेरणा से संघर्ष करने की प्रेरणा मिलती है. उन्होंने अपने जीवन में साम, दाम, दंड और भेद का संघर्ष से सामना किया. बाबा साहब और कांशीराम के दिखाए गए रास्ते पर चले बिना आम जनों के जीवन में बदलाव नहीं आ सकता है.
बीएसपी अकेले लड़ेगी चुनाव
बसपा सुप्रीमो मायावती ने पांच राज्यों में हो रहे चुनाव और उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव में अकेले लड़ने का एलान किया है. उन्होंने कहा कि हम किसी भी राज्य में किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेंगे और अकेले दम पर चुनाव लड़ेंगे. इसके साथ उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में भी उन्होंने चुनाव लड़ने की बात कही. उन्होंने कहा कि हम किसी भी पार्टी से पांच राज्यों के चुनाव में या 2022 के आने वाले विधानसभा चुनाव में गठबंधन नहीं करेंगे. बहुजन समाज पार्टी अकेले ही चुनाव लड़ेगी. पांच राज्यों में अकेले चुनाव लड़ने और इससे भारतीय जनता पार्टी को फायदा होने के सवाल पर मायावती ने कहा कि किसे फायदा होगा या किसे नुकसान होगा इससे हमें कोई मतलब नहीं है. हम बिना किसी के गठबंधन के चुनाव लड़ेंगे.
चीनी मिल बिक्री का फैसला सामूहिक
मायावती ने बसपा सरकार के दौरान चीनी मिल बिक्री और उसमें हुए भ्रष्टाचार के सवाल पर कहा कि चीनी मिल बेचने का फैसला कैबिनेट में हुआ था और यह सामूहिक फैसला था. इसमें किसी प्रकार की अनियमितता नहीं हुई. कोई भी फैसला होता है तो सामूहिकता के साथ किया जाता है.
प्रियंका व ओवैसी के सक्रिय पर होने पर कहा, सबको हक है
बहुजन समाज पार्टी की मुखिया ने उत्तर प्रदेश में एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी की सक्रियता और प्रियंका गांधी की 2022 के चुनाव से पहले की सक्रियता को लेकर कहा कि लोकतंत्र में सबको अधिकार है. अपनी पार्टी और चुनाव लड़ने को लेकर उससे हमें कोई फर्क नहीं पड़ता. हम अकेले दम पर चुनाव लड़ेंगे. हम दूसरे दलों की तरह शोरगुल मचाकर काम नहीं करते हैं. ना ज्यादा धरना प्रदर्शन करते हैं. बहुजन समाज पार्टी एक मूवमेंट को लेकर चलती है और इसी आधार पर हम अपने संगठन का काम और चुनाव का काम करते हैं.
किसान कानून वापस ले सरकार
बसपा मुखिया पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को वापस करने की एक बार फिर मांग की. उन्होंने कहा कि किसान लगातार संघर्ष कर रहे हैं और बहुजन समाज पार्टी किसानों के साथ है. केंद्र सरकार को किसानों की मांग पर कृषि कानून वापस लेना चाहिए. केंद्र सरकार को अपनी जिद छोड़नी चाहिए.
यूपी में कानून व्यवस्था खराब
मायावती ने उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर भी निशाना साधा, उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था बेहद खराब है. जातिगत विद्वेष की भावना से भाजपा सरकार काम कर रही है. बसपा की रणनीति के सवाल पर मायावती ने कहा कि हम ज्यादा धरना प्रदर्शन और मीडिया में अपनी रणनीति का खुलासा नहीं करते हैं. हम जमीन पर काम करने वाले दल हैं और एक मूवमेंट को लेकर चल रहे हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button