उत्तर प्रदेशबड़ी खबरलखनऊ

केशव मौर्य हो सकते हैं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव अगले साल 2022 में होने हैं. चुनाव के मद्देनजर सियासी उलटफेर अभी से होते हुए दिखाई देने लगे हैं. सूत्रों की मानें तो भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष पद से स्वतंत्र देव सिंह जल्द ही हटाए जा सकते हैं. नेतृत्व की अपेक्षा पर खरा नहीं उतरने वाले पिछड़ा वर्ग के नेता स्वतंत्र देव सिंह की जगह डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ले सकते हैं.

केशव प्रसाद मौर्य के नेतृत्व में हुए 2017 के चुनाव में ही सत्ता में आई थी भाजपा

सांगठनिक कौशल और मृदुभाषी केशव प्रसाद मौर्य के नेतृत्व में ही 2017 का विधानसभा चुनाव लड़ा गया था. उक्त चुनाव में पार्टी को प्रचंड बहुमत मिला था. भाजपा नेतृत्व एक बार फिर केशव प्रसाद मौर्य के चेहरे पर ही दांव लगाना चाह रही है. केशव प्रसाद मौर्य के नाम पर नेतृत्व में अब तक आम सहमति बन चुकी है. कभी भी इसकी घोषणा की जा सकती है. सूत्र तो यहां तक बताते हैं कि डिप्टी सीएम को इस बाबत जानकारी दे दी गई है. भाजपा अध्यक्ष के लिए पश्चिम के एक दलित नेता के बारे में भी चर्चा चल रही है, लेकिन केशव प्रसाद मौर्य उन पर भारी पड़ते हैं.

दूसरे डिप्टी सीएम भी हो सकते हैं बाहर

भाजपा की इस आंतरिक बदलाव की आंधी में दूसरे डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा भी सरकार से बाहर जा सकते हैं. बताया जा रहा है कि अब दो डिप्टी सीएम के स्थान पर केवल एक डिप्टी सीएम होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी गुजरात कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी व भाजपा एमएलसी अरविंद कुमार शर्मा डिप्टी सीएम बनाए जा सकते हैं. उन्हें गृह मंत्रालय जैसा महत्वपूर्ण विभाग दिया जा सकता है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ गृहमंत्री के तौर पर अरविंद कुमार शर्मा को इसलिए लगाया जाएगा, ताकि केंद्रीय नेतृत्व की मंशा के अनुरूप धरातल पर शत-प्रतिशत काम पहुंचाया जा सके. अगर विस्तार हुआ तो योगी मंत्रिमंडल में पांच से सात नए चेहरे शामिल हो सकते हैं.

सरकार और संगठन के साथ प्रशासनिक बदलाव भी होंगे

सरकार और संगठन में ही बदलाव नहीं होंगे. सरकार के सूत्रों का कहना है कि नौकरशाहों के भी नए चेहरे दिखाई देंगे. कई महत्वपूर्ण पदों पर नए अफसरों की तैनाती की जा सकती है. इसमें सबसे महत्वपूर्ण पद मुख्य सचिव का है. मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी को नई जिम्मेदारी दी जा सकती है. इनकी जगह अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को मुख्य सचिव बनाया जा सकता है.
पिछले दिनों भाजपा एमएलसी अरविंद कुमार शर्मा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के बाद अवनीश अवस्थी से भी मुलाकात की थी. यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है. इसके अलावा अगर हितेश चंद्र अवस्थी केंद्र भेजे गए तो प्रदेश को नया डीजीपी भी मिल सकता है. अनुमान है कि यह सारे बदलाव 15 जून तक हो जाएंगे.

Related Articles

Back to top button