किसानों के साथ राजनीति ना करें राजनैतिक दल

रजवाहा संघ अध्यक्ष गिरधर भक्त मिश्र ने व्यक्त किया आक्रोश

0

रजवाहा फफूँद सिंचाई खंड औरैया के अध्यक्ष गिरधर भक्त मिश्र ने कृषि विधेयक के पारित होने पर पक्ष व विपक्ष द्वारा किसानों के साथ सियासत करने पर आक्रोश व्यक्त किया है।उन्होंने किसानों के बिना सहमति के बिल पारित करने को गलत बताते हुए इसको सरकार की भूल बताया है।

गिरधर भक्त मिश्र ने कहा कि जो सरकार आढती/ कमीशन एजेन्ट/दलाल को खत्म करने की बात कर रहे हैं तो ये सरकार कि सबसे बडी भूल है।जब किसान भाइयों को रूपया कि जरूरत अचानक पड़ती है तब आढती देता है और अभी किसान भाइयों कि आर्थिक विकास दर बहुत ही कम है इसलिये आढ़ती बहुत जरूरी है।जिन कृषि उत्पादनों की मंडी दूर है और उनका समर्थन मूल्य भी निर्धारित नही है।उन्होंने कहा कि सरकार सच्ची किसान हितैषी है तो इन उत्पादकों का समर्थन मूल्य निर्धारित करने का काम करे और किसान भाइयों का आय बढाने मे सहयोग करे।सरकार सब्जी फल फूल दूध घी अंडा मांस मछली व तेल आदि का समर्थन मूल्य निर्धारित करे जिससे किसान भाइयों कि आय दो गुनी हो सकती है।क्या किसान भाइयों को पूरा पूरा समर्थन मूल्य मिलता है? लगभग 15से 20 %किसान भाई सिर्फ सर्मथन मूल्य पर फसल बेच पाता है बाकी किसान आढती को बेचता है और सरकारी आकड़ा व्यापारी द्वारा पूरा किया जाता है।

उन्होंने बताया कि जब हम किसान जीएसटी देते हैं तो फसल समर्थन मूल्य पर जीएसटी क्यों नही मिलती है। ट्रैक्टर बीज खाद पर जी एस टी और डीजल पर कई गुना टैक्स लगता है।सरकार किसान भाइयों के हक और स्वाधीनता के साथ खिलवाड़ कर रही है।उन्होंने विधेयक के खिलाफ इस्तीफा देने पर केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल का धन्यवाद एवं आभार व्यक्त किया।उन्होंने कहा कि वह एक सच्ची किसान कि बेटी है ऐसे ही किसान भाइयों के चुने हुए जनप्रतिनिधि काम करने लगें तो वह दिन दूर नहीं जिस दिन देश का हर किसान भाई कि आर्थिक विकास दर बहुत ही मजबूत हो जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.