सियासत की नयी बिसात

0

मृत्युंजय दीक्षित

देश के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने अपने विदाई समारोह में जिस प्रकार से मुस्लिमांे में असुरक्षा की भावना की बत कह कर गये है। उससे उनके खिलाफ जनज्वार का उठना स्वाभाविक ही है। हामिद अंसारी वर्तमान समय मेें एक बहुत ही योग्य व पड़े लिखे मुस्लिम नेता माने जाते रहे हैं लेकिन अंसारी जी ने एक नहीं कई बार अपने विवादित बयानों से विवादों को ही जन्म दे दिया है। लेकिन इस बार तो हद ही कर दी है। जिस समय पूरा देश सबका साथ विकास और न्यू इंडिया के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है उस समय अंसारी जी ने देश का वातावरण बिगाड़ने व भविष्य की राजनीति का अपना व विपक्ष का राजनैतिक एजंेंडा तय करने का ही काम किया है। मुस्लिमों में असुरक्षा की बात कहना संभवतः अंसारी जी पर ही खरी उतर सकती है क्योंकि राष्ट्रपति पद की दौड़ के समय उनकी अपनी ही पार्टी के लोगों ने उनक नाम पर चर्चा नहीं की थी संभवतः स्वयं को वह आहत महसूस कर रहे होंगे यही कारण है कि उन्होंने मुस्लिमों में असुरक्षा व डर की बातों का बखान कर डाला है। उनके इस बयान के पीछे कई अन्य सियासी तीर भी हो सकते हैंे। अंसारी जी के बयान की जितनी भी निंदा की जाये वह बेहद कम है। अब संभवतः उनके बयानों को ही आधार मानकर विपक्ष आगामी विधानसभा चुनावों में अपना एजेंडा भी सेट करेगा।

आज पूरे विश्व भर में यदि कहीं पर अल्पसंख्यक मजा मार रहे हैं तो वह केवल हिंदुस्थान ही है। यह बडे़ दुर्भाग्य की बात है कि इस देश मंे कहीं भी ऐसे डर का कोई माहौल नही है केवल उन्हीं लोगों व दलों व के मन में डर का माहौल व्याप्त हो गया है जिनके पास बेनामी संपत्ति है। जो कालेधन के लोगों के समर्थक हैं। अंसारी ने अपनी बात कहकर देश की सियासत को एक नई हवा देने का असफल प्रयास किया है। अंसारी ने अपने पद व गरिमा के खिलाफ जाकर यह बयान दिया है।यह बड़े दूखकी बात हे कि क्या इस देश में केवल मुस्लिम समाज ही अल्पसंख्यक है। इस देश में जैन, सिख, ईसाई व पारसी समाज भी अल्पसंख्यक हैं लेकिन उनके अधिकारों की बात कोई नहीं करता । कांग्रेस पार्टी अपने वह दिन भूल गयी जब हिंसक भीड़ ने ही श्रीमती इंदिरा गांधी की हत्या के बाद देशभर में सिखों का कत्लेआम किया था। उस भीड़ का नेतृत्व करने वाले कांग्रेसी ही थे।

देशभर में ऐसे दंगों का इतिहास भरा पड़ा है जहां कांग्रेसी कार्यकर्ता भी दंगाइयों का नेतृत्व कर रहे थे क्या कांग्रेस बिहार का भगलपुर दंगा भूल गयी है। अंसारी ने अपने बयान में डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जिन बातों का उल्लेख किया है क्या वह कश्मीरी हिंदुओं के लिये लागू नहीं होती। आज कश्मीर का विस्थापित हिंदू देश के कई स्थानों पर दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर है, क्या अंसारी साहब उनके दर्द को भी बयां करेंगे? जब बांग्लादेश, पाकिस्तान अफगानिस्तान सहित विश्व के किसी अन्य देश में हिंदू के साथ कोई घटना घटती है तब यह लोग क्यों चुप रहते हैं ? केरल के कन्नूर में कांग्रेसी कार्यकर्ताआ ने भीड़ के समूह में ही सरेआम गाय को काटकर उसका भक्षण किया क्या यह हिंदुओं की भावना के साथ अन्याय नहीं किया गया था। इतना ही नहीं जिस प्रकार से केरल के कन्नूर से लेकर चेन्नई व मेघालय, मिजोरम तक जिस प्रकार से गाय का भक्षण किया गया वह क्या था?

केरल में संघ के कार्यकर्ताओं की हत्यायें हो रही हैं तथा पश्चिम बंगाल में हिंदुओं को भीड़ द्वारा ही अपमनित किया जा रहा है ,उनके घर जलाये जा रहे हैं तथा हिंदुओं की बहिन-बेटियों के साथ सरेआम दुराचार किये जा रहे हैं इन सब के लिये आखिरकार कौन दोषी है? अंसारी जी ने कभी भी हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों पर बात क्यांे नहीं कि यदि वह बहुत बड़े धर्मनिरपेक्षता के झंडाबरदार हैं। उन्होंने अपने बयानों से देश में सनसनी मचाने व भाजपा विरोधियों को एक एजेंडा पेश करके दे दिया है। उनके बयान से पूरे देश की छवि विदेशों में भी खराब हो गयी है। यह भारत ही एक ऐसा देश है जहां उच्च पद पर बैठा हुआ व्यक्ति इस प्रकार की ओछी मानसिकता वाली अभिव्यक्ति प्रकट कर सकता है। आज पूरा हिंदू समाज अपने आप को आहत महसूस कर रहा है।

अंसारी को यह बात बोलने के पहले यह सोच लेना चाहिये था कि आजादी के बाद देश में कितने मुस्लिम राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यपाल व राजनैतिक दलांे के प्रवक्ता बने। कितने मुस्लिमों ने सांसद व विधायक बनकर अनुकरणीय कार्य किये हैं यह सब हिंदुओं की सहिष्णुता का ही परिचायक है। आज की फिल्मी दुनिया में सलमान खान, शाहरूख खान, आमिर खान व नवाजुददीन सिददीकि जैेसे मुस्लिम कलाकार हिंदुओं के धन के बल पर ही राज कर रहे हैं। यदि जिस दिन हिंदुओं ने चाह लिया तो यह लोग आकाश से जमीन पर आ ही जायेंगे। सबसे बड़ी बात यह है कि तीनों ही खान बंधु कभी भी शहीद जवानों के प्रति संवेदना नहीं व्यक्त करते अपितु याकूब मेनन जैसे आतंकवादी की फांसी की सजा के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाते हैं और भारत मंे सहिष्णुता बनाम असहिष्णुता का नाटक खेलते हैं।

अंसारी साहब को यह सोचना चाहिये था कि भारतीय क्रिकेट टीम सहित हर खेल में कई मुस्लिम खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। क्रिकेट में नवाब पटौदी से लेकर जहीर खान और मोहम्मद शमी तक लंबी फेहरिस्त है। यही कहानी हॉकी से लेकर अन्य टीम स्पर्धाओें तक में हैं। पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने मुस्लिमों में असरुक्षा की भावना की बात कहकर पाकिस्तानी एजेंडे को भी काफी हद तक धार दी है। अगर देश का मुसलमान अपने आप को असुरक्षित महसूस भी कर रहा है तो उनको यह साबित करने को लिये व्यापक ठोस प्रमाणों के साथ अपनी बात कहनी चाहिये थी। अगर मुसलमानों को गौरक्षकांे की हिंसा से बचना है तो उन्हें भी हिंदुओं की भावना का ध्यान रखना होगा। केवल बहुसंख्यक हिंदू समाज ने ही मुसलमानों के लिये ठेका नहीं ले रखा है।

मुसिलम समाज गाय, गंगा, वंदेमातरम का विरोध करता रहे, उसके धार्मिक हितों की पूर्ति के लिये हिंदू समाज अपने मंदिरों से लाउडस्पीकर उतारता रहे यह कब तक संभव है। उपराष्ट्रपति ने अल्पसंख्यकवाद की राजनीति को हवा देने का काम किया है। वास्तविकता यह है कि मोदी सरकार में सबसे अध्किा अल्पसंख्यक मजा मार रहे हैं। उन्होंने पत्थरबाजों का समर्थन करके अपनी विकृत मानसिकता का एजेंडा देश के विपक्ष को दे दिया है तथा परोक्ष रूप से सेना का मनोबल भी तोड़ने का असफल प्रयास किया है। अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष गेरूल हसन का यह कहना सही है कि अंसारी जी को यह बात अपने कार्यकाल के आखिरी दिनों मंे ही कहने की आवश्यकता क्यों आ पड़ी। इससे यह बात सज्ञफ हो रही है राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान व बाद उपराष्ट्रपति पद पर उनकी फिर से वापसी पर चर्चा तक नहीं की गयी उनके मन में यही छटपटाहट रही होगी जिसके बाद अपनी भावनाओं का प्रकटीकरण इस प्रकार से दे दिया और मोदी सकरार को अपमानित कर दिया। यदि वह बिना कुछ बोले चले जाते तो संभवतः उन्हें कोई याद नहीं रखता?

( लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं। )

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.